Sunday, Jun 16, 2019

खुद को ‘मिस्टर सिक्योरिटी’ बुलाते हैं इजरायल के पीएम, मोदी की तरह कर रहें चुनाव प्रचार

  • Updated on 4/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इजरायल में आम चुनावों के लिए वोटिंग 9 अप्रैल से शुरु हो चुकी है। इस बार मौजूदा प्रधानमंत्री और दक्षिणपंथी लिकुड पार्टी के नेता बेंजामिन नेतन्याहू पांचवी बार प्रधानमंत्री की दावेदारी ठोक रहे हैं तो वहीं इजरायल के सेवानिवृत्त जनरल बेनी गैंट्स उनको कड़ी टक्कर दे रहे हैं।

इजरायल और भारत वैसे तो दो अलग-अलग देश हैं, लेकिन दोनों देशों के आम चुनावों में काफी समानताएं देखी जा रही हैं। जहां एक तरफ नेतन्याहू की तुलना मोदी से की जा रही है तो वहीं पीएम मोदी की ही तरह नेतन्याहू खुद को देश का ‘चौकीदार’ भी बता रहे हैं। दरअसल, नेतन्याहू खुद को ‘मिस्टर सिक्योरिटी’ कहकर संबोधित कर रहे हैं।

विजय माल्या को लगा बड़ा झटका, UK कोर्ट ने प्रत्यर्पण के खिलाफ याचिका की खारिज

भारत और इजरायल दोनों देशों में आतंक का मुद्दा सबसे अहम है। जैसे पीएम मोदी आतंक के मुद्दे को चुनावी रैलियों में उठा रहे हैं, उसी तरह नेतन्याहू भी इस मुद्दे को जोरों से उठा रहे हैं। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि भारत की तरह मित्र देश इजरायल में भी चुनावी प्रक्रिया चल रही है।

वहीं नेतन्याहू के विपक्ष में खड़े बल्यू एंड वाइट गठबंधन के प्रमुख गैंट्ज भी सुरक्षा मुद्दों के मामले पर नेतन्याहू को टक्कर दे रहे हैं और साफ-सुथरी राजनीति का वादा कर रहे हैं। मोदी की तरह ही बेंजामिन नेतन्याहू के लिए भी ये मुकाबला आसान नहीं रहने वाला है क्योंकि विपक्ष ने उनको उसी तरह घेरा है जिस तरह नरेंद्र मोदी को। बता दें कि भारत और इजरायल में आम चुनावों के लिए वोटिंग भी लगभग आसपास हो रही है। जहां इजरायल में 9 अप्रैल को मतदान शुरु हुए हैं वहीं भारत में 11 अप्रैल को पहले चरण का मतदान होगा।

#AirStrike की रडार इमेज देख बौखलाया पाकिस्तान, कहा- झूठ दोहरा रहा भारत

सरकार बनाने के लिए पार्टी के पास 3.25 प्रतिशत वोट होना जरुरी

इजरायल की संसद में कुल 120 सीटें हैं। सरकार बनाने के लिए पार्टी को कम से कम 3.25 प्रतिशत वोट मिले होने चाहिए। चुनाव के बाद इजरायल के राष्ट्रपति उस उम्मीदवार को सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं जो गठबंधन करके सरकार बनाने में सक्षम है। यह सारी प्रक्रिया 28 दिनों के अंदर कर ली जाती है।

पाकिस्तानी अल्पसंख्यक समूहों ने व्हाइट हाउस के सामने किया प्रदर्शन

इतिहास रच सकते हैं देश के दोनों पीएम

अगर बेंजामिन नेतन्याहू एक बार फिर चुनाव जीत जाते हैं तो इजरायल के इतिहास में सबसे ज्यादा लंबे वक्त तक पीएम बनने वाले पहले व्यक्ति होंगे। अगर ऐसा हो गया तो वो इजरायल के जनक कहे जाने वाले डेविड बेन से भी आगे निकल जाएंगे। वहीं दूसरी तरफ अगर पीएम मोदी जीतते हैं तो वह सबसे लंबे वक्त तक पीएम रहनेवाले गैर कांग्रेसी पीएम होंगे।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.