Thursday, Dec 08, 2022
-->
israel-uae-after-72-years-two-enemy-countries-joined-hands-know-the-real-secret-prsgnt

72 साल बाद दो दुश्मन देशों ने इसलिए मिलाया हाथ, जानिए इजराइल और यूएई की दोस्ती का असली राज...

  • Updated on 8/14/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनिया के दो बड़े देश इजरायल और संयुक्‍त अरब अमीरात, एक दूसरे के 72 साल पुराने दुश्मन माने जाते रहे हैं लेकिन अब इन दो देशों की आपसी दुश्मनी खत्म हो चुकी है। इन दो देशों के बीच 72 साल पुरानी खाई को भरने का काम अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने किया है।

दरअसल, सालों से दुश्मन बने बैठे इजराइल और संयुक्‍त अरब अमीरात ने आपस में दोस्ती का नया समझौता किया है, जिसकी मध्‍यस्‍थता डोनाल्‍ड ट्रंप ने की है। इन दोनों देशों ने शांति समझौते पर हस्‍ताक्षर किए है।

डोनाल्ड ट्रंप ने चेताया- अगर बाइडेन राष्ट्रपति चुने गए तो अमेरिका हो जाएगा दिवालिया

भारत के लिए खुशखबरी
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू और अबूधाबी के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद अल नहयान के बीच हुए इस दोस्ती समझौते को 'एक वास्‍तविक ऐतिहासिक मौका' बताया जा रहा है। जानकारों के अनुसार ये डील चीन और ईरान की दोस्ती को एक करार जवाब है और भारत के लिए बड़ी खुशखबरी है।

दरअसल, भारत का ज्यादातर तेल अरब से आता है और भारत चाहता है कि यूएई और सऊदी अरब में शांति कायम रहे ताकि सऊदी अरब, पाकिस्‍तान से अलग हो जाए। इससे भारत को दोतरफा यानी भारत को आर्थिक और रणनीतिक दोनों फायदे होंगे।

राफेल आने से बौखलाया पाक, बोला- 5 आए या 500 हम जवाब देने को तैयार

इस दोस्ती का क्या है राज
सालों की दुश्मनी का अचानक यूं दोस्ती में बदल जाना सभी के लिए हैरानी वाली बात है। जानकारों की माने तो इन दोनों देशों ने काफी सोच-समझ कर साथ आने का फैसला लिया है। दरअसल, ईरान के बढ़ते खतरे को देखते हुए इजरायल और यूएई ने साथ आने का फैसला किया है।

सूत्रों के अनुसार, चीन और ईरान बीच एक बड़ी डील हुई है। इसी दोस्ती को जवाब देने के लिए यूएई ने इजरायल से हाथ‍ मिलाया है। इसमें यूएई का ज्यादा फायदा हो सकता है! दरअसल, यूएई और सऊदी अरब को इजरायल की काफी जरूरत पड़ रही है, जिसकी वजह है पाकिस्‍तान से यूएई और सऊदी अरब की दूरी बढ़ना। यही कारण है कि यूएई ने फलस्‍तीन को छोड़ इजरायल का हाथ थाम लिया है।

रूस की कोरोना वैक्‍सीन का क्यों विरोध कर रहे हैं कई देश और क्‍या है फेज-3 ट्रायल...

अमेरिका भी खुश
कोरोना सकंट के कारण अमेरिका काफी परेशान है इसलिए वो चाहता हैं कि पश्चिम एशिया में इजरायल उसकी जगह ले। ये दोनों के लिए काफी आसान हो सकता है। जबकि उधर, लीबिया में यूएई को काफी समस्या है। जिसे इजराइल दूर कर सकता है और दोनों की दोस्ती से अमेरिका को कई बड़े फायदे हो सकता हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.