Sunday, May 22, 2022
-->
it will be cold in north india now, read weather update

उत्तर भारत में अभी और पड़ेगी कड़ाके की ठंड, पढ़ें Weather Update

  • Updated on 1/27/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को मौसम सर्द रहने के साथ ही न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने यह जानकारी दी। मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार, शहर में पिछले तीन-चार दिन से बारिश होने, कोहरा छाने और धूप कम निकलने के कारण मौसम काफी सर्द है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, दिल्ली में मंगलवार को जनवरी का सबसे ठंडा दिन था। अधिकतम तापमान सामान्य से 10 डिग्री कम 12.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इससे पहले, तीन जनवरी 2013 को अधिकतम तापमान 9.8 डिग्री सेल्सियस रहा था। मंगलवार को लगातार दूसरे दिन ‘अत्यधिक ठंडा दिन’ रहा, जबकि बुधवार को इसमें कुछ कमी आने से ‘ठंडा दिन’ रहा।

आईएमडी के अनुसार, दिन में न्यूनतम तापमान के 10 डिग्री सेल्सियस से कम होने और अधिकतम तापमान के सामान्य से कम से कम 4.5 डिग्री सेल्सियस कम होने पर उसे ‘ठंडा दिन’ माना जाता है। अधिकतम तापमान के सामान्य से कम से कम 6.5 डिग्री कम होने पर उसे ‘अत्यधिक ठंडा’ दिन माना जाता है।

आईएमडी के अनुसार, ‘दिन में आमतौर पर आसमान साफ रहेगा। बृहस्पतिवार को शहर के कुछ इलाकों में ठंड अधिक रह सकती है।’ विभाग के अनुसार, बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है। बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री कम 16.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। विभाग के अनुसार, बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे हवा में नमी का स्तर 97 प्रतिशत रहा।

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, दिल्ली में बृहस्पतिवार को वायु गुणवत्ता ‘खराब’ श्रेणी में रही। सुबह आठ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 264 दर्ज किया गया। शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को‘अच्छा‘, 51 और 100 के बीच‘संतोषजनक‘, 101 और 200 के बीच‘मध्यम‘, 201 और 300 के बीच‘खराब‘, 301 और 400 के बीच‘बहुत खराब’तथा 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.