Monday, May 23, 2022
-->
iyc marches from raisina road to india gate against violent incident in jnu

JNU में हुई हिंसक घटना के खिलाफ यूथ कांग्रेस ने रायसीना रोड से इंडिया गेट तक निकाला मार्च

  • Updated on 1/6/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में कल हुई हिंसक घटना के खिलाफ भारतीय युवा कांग्रेस (Youth Congress) के सदस्यों ने रायसीना रोड (Raisina Road) से इंडिया गेट (India Gate) तक मार्च निकाला। जेएनयूएसयू (JNUSU) अध्यक्ष सहित दर्जनों छात्र इस घटना का शिकार हुए। कई छात्रों को गंभीर चोट आने के कारण उन्हें एम्स और सफदरजंग (Safdarjung) अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

ममता बनर्जी का बीजेपी पर हमला, #JNUViolence को बताया फासीवादी सर्जिकल स्ट्राइक

ओवैसी ने जेएनयू के विद्यार्थियों के साथ जताई एकजुटता, कही ये बात

ये था पूरा मामला
जेएनयू में हुई फीस वृद्धि का छात्रों ने पुरजोर विरोध किया, जिसके बाद प्रशासन ने फीस में आंशिक घटाव किया। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP) के छात्रों ने आंदोलन वापस ले लिया। लेकिन जेएनयू छात्रसंघ (JNU Student Union) बढ़ी हुई पूरी फीस वापस लेने की मांग पर अड़ा रहा। छात्रों की इस मुहिम को देश के अन्य विश्वविद्यालयों के साथ-साथ लेफ्ट समर्थकों का भी साथ मिलता रहा। उसके बाद जेएनयू प्रशासन ने शनिवार को बयान जारी कर कहा था कि जो बीपीएल (BPL) धारक होंगे, उनको आर्थिक रुप से मदद दी जाएगी। लेकिन फिर भी छात्रों का प्रदर्शन जारी रहा। 

जेएनयू मामले पर महाराष्ट्र के CM का बड़ा बयान, कहा- 26/11 हमले की याद दिला दी

जेएनयू छात्र संघ ने लॉक किया सर्वर रूम
जेएनयू में विरोध कर रहे छात्रों ने परीक्षा का भी बहिष्कार किया। इसके बाद प्रशासन की ओर से दाखिला प्रक्रिया शुरु हुई, उससे भी छात्रों ने किनारा किया। विश्वविद्यालय में दाखिला प्रक्रिया ऑनलाइन की जाती है। ऑनलाइन दाखिला में सर्वर रुम की बड़ी भूमिका होती है। बताया जा रहा है कि शनिवार को जेएनयू छात्र संघ ने सर्वर रुम लॉक कर दिया। जिसके बाद रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया (Registration Process) में बाधा आयी और छात्रों ने आपस झगड़ा कर लिया।

#JNU Violence: कैंपस के Server Room के कारण हुआ विवाद, जानें पूरी कहानी

JNU छात्रसंघ और ABVP ने एक दूसरे पर लगाए आरोप
राजनीतिक छात्र संगठन एबीवीपी ने लेफ्ट पर आरोप लगाते हुए कहा कि वामपंथी संगठनों से जुड़े छात्र राजनीतिक हितों के लिए जेएनयू में एमर्जेंसी जैसे हालात बनाना चाहते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि लेफ्ट के छात्र रजिस्ट्रेशन नहीं होने दे रहे थे और इसमें जिन छात्रों ने रजिस्ट्रेशन की मांग की थी उन्हें हॉस्टल में घुस कर मारा गया। जेएनयूएसयू ने दावा किया है कि एबीवीपी के लोगों द्वारा किये गए हमले में उनकी अध्यक्ष आइसी घोष समेत कई स्टूडेंट्स घायल हुए हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.