Thursday, Jan 20, 2022
-->
j-k stone pelters will not-get-passport-verification clearance for-govt-jobs kmbsnt

जम्मू कश्मीर: पत्थरबाजों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, न होगा पासपोर्ट वेरिफिकेशन

  • Updated on 8/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर में अब पत्थरबाजों के खिलाफ सख्ती बरती जा रही है। घाटी के युवाओं को पत्थर उठाने से पहले कई बार सोचने की जरूरत पड़ेगी। जम्मू कश्मीर के जो भी युवा पत्थबाजी जैसी गतिविधियों में शामिल रहे हैं उनको न तो सरकारी नौकरी मिलेगी और न ही उनका पासपोर्ट वेरिफिकेशन किया जाएगा।

इसके लिए कश्मीर सीआईडी द्वारा सर्कुलर जारी कर दिया गया है। इसमें स्पष्ट रूप से कहा गया है कि पत्थबाजी जैसी गतिविधियों में शामिल रहे लोगों को सिक्योरिटी क्लीयरेंस नहीं दिया जाएगा। 

फिर सिर उठा रहा कोरोना! 10% से अधिक संक्रमण दर वाले जिलों में केंद्र ने दिए सख्ती के निर्देश

पत्थरबाजों को नहीं मिलेगा सरकारी सुविधाओं का लाभ
सीआईडी द्वारा जारी सर्कुलर में लिखा गया है कि पासपोर्ट, सरकारी नौकरी या उससे जुड़ी योजनाओं का लाभ जैसे मामलों में किसी भी व्यक्ति की सिक्योरिटी क्लियरेंस की रिपोर्ट तैयार करते समय इस बात का खास ध्यान रखा जाए कि वो किसी भी कानून व्यवस्था को भंग करने जैसे अपराध में शामिल न हो। पत्थरबाजी या दूसरे अन्य किसी भी प्रकार के अपराध में शामिल व्यक्ति को सिक्योरिटी क्लियरेंस नहीं दिया जाए। 

संसद में काम नहीं सिर्फ हंगामा! अब तक केवल 18 घंटे कार्यवाही, जनता के 133 करोड़ बर्बाद

ली जा सकती है पुलिस की मदद
सीआईडी द्वारा जारी सर्कुलर में इस प्रकार की रिपोर्ट तैयार करने के लिए संबंधित पुलिस स्टेशन की मदद ली जा सकती है। पुलिस स्टेशन से व्यक्ति के  बारे में पूछताछ की जा सकती है और जरूरत पड़ने पर वहां से रिपोर्ट भी ली जा सकती है। इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस के पास से सीसीटीवी फुटेज, तस्वीरे और अन्य सबूतों की मदद भी ली जा सकती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.