jammu-and-kashmir-former-ias-officer-shah-faesal-attacks-modi-govt-over-kashmir-situation

शाह फैसल का मोदी सरकार पर हमला, बोले- अप्रत्याशित नाकेबंदी से गुजर रहा कश्मीर

  • Updated on 8/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूर्व आईएएस अफसर और नेता शाह फैसल ने बुधवार को कहा कि कश्मीर ‘अप्रत्याशित’ नाकेबंदी से गुजर रहा है और इसकी 80 लाख की आबादी ऐसी ‘कैद’ में है जिसका सामना उसने पहले कभी नहीं किया। फैसल ने यह भी कहा कि फिलहाल खाने और कारूरी चीकाों की कमी नहीं है। फैसल ने फेसबुक पर लिखी एक पोस्ट में कहा कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और जम्मू-कश्मीर पीपल्स कॉन्फ्रेंस के नेता सज्जाद लोन से संपर्क करना या उन्हें संदेश भेजना संभव नहीं है। 

पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह की पत्नी हुईं ठगी का शिकार, उठे सवाल

घाटी में संचार माध्यमों पर प्रतिबंध है और चंद मोबाइल फोन और इंटरनेट कनेक्शन ही चल रहे हैं। इस वजह से कश्मीर से थोड़ी-थोड़ी सूचनाएं ही आ रही हैं। गौरतलब है कि संसद ने अनुच्छेत 370 के तहत जम्मू कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को खत्म करने तथा राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने को मंजूरी दे दी है। 

स्मृति शेष: सुषमा स्‍वराज की सियासी जिंदगी से जुड़े ये हैं 10 चर्चित किस्से

जम्मू कश्मीर पीपल्स मूवमेंट पार्टी के अध्यक्ष फैसल ने फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘ कश्मीर अप्रत्याशित नाकेबंदी का सामना कर रहा है। काीरो ब्रिज से लेकर एयरपोर्ट तक सिर्फ चंद गाडिय़ां ही दिख रही हैं। अन्य स्थानों पर लोगों के जाने पर पूरी तरह से रोक लगी हुई है। कुछ मरीकाों और कफ्र्यू पास रखने वाले लोगों को ही जाने दिया जा रहा है।’’ फैसल ने कश्मीर के कामीनी हालात की जानकारी देते हुए कहा कि अन्य जिलों में कफ्र्यू लगा हुआ है।

साल 2010 में सिविल सेवा में टॉप करने वाले फैसल ने कहा, ‘‘ आप कह सकते हैं कि 80 लाख की आबादी कैद की ऐसी स्थिति का सामना कर रही है जो उसने पहले कभी नहीं देखी है।’’ फिलहाल, खाने और कारूरी चीकाों की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा, ‘ प्रशासन में मेरे सूत्रों ने बताया है कि अधिकारियों को सेटेलाइट फोन दिए गए हैं जिनका इस्तेमाल नागरिक रसद में समन्वय के लिए किया जा रहा है। संपर्क का कोई अन्य साधन उपलब्ध नहीं है।’’

RBI ने धीमी पड़ती अर्थव्यवस्था के बीच की नीतिगत दर में कटौती का ऐलान


फैसल ने दावा किया, ‘‘ जिन लोगों के पास डिश टीवी है, वे ही खबरें देख पा रहे हैं। केबल सेवा बंद है। बहुत सारे लोगों को जो हुआ है उसकी स्पष्ट जानकारी नहीं है। कुछ घंटे पहले तक रेडियो काम कर रहा था। ज्य़ादातर लोग डीडी देख रहे हैं। राष्ट्रीय मीडिया को अंदरूनी इलाकों में जाने नहीं दिया जा रहा है।’’ उन्होंने दावा किया कि एल डी अस्पताल अपनी क्षमता से ज्य़ादा भरा हुआ है और गर्भवती महिलाओं को बच्चे को जन्म देने की तारीख से कुछ दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है। 


फैसल ने कहा कि आधिकारिक तौर पर ङ्क्षहसा की कोई घटना रिपोर्ट नहीं हुई है। रामबाग, नातीपुरा, डॉउनटॉउन, कुलगाम, अनंतनाग में पथराव की छिटपुट घटनाएं हुई हैं, लेकिन किसी के मरने की कोई खबर नहीं है। उन्होंने फेसबुक पर लिखे पोस्ट में कहा, ‘‘ लोग स्तब्ध हैं। उन्हें अभी समझना है कि क्या हो गया है। सबको दुख है।’’ फैसल ने कहा- ‘‘ अनुच्छेद 370 के अलावा पूर्ण राज्य के दर्जे को खोने को लेकर लोग काफी आहत हैं। यह भारत द्वारा 70 साल में सबसे बड़े धोखे के तौर पर देखा जा रहा है।’’ 

कश्मीर में बकरीद के मौके पर पाबंदियों में दी जा सकती है ढील

उन्होंने कहा कि कुछ नेता जो हिरासत से बच निकले, उन्होंने टीवी चैनलों के जरिए शांति की अपील की है। फैसल ने आरोप लगाया, ‘‘ कहा जा रहा है कि सरकार 8-10 हजार लोगों के हताहत होने की स्थिति को लेकर तैयार है। समझदारी इस बात में है, हम किसी को जनसंहार का कोई मौका नहीं दें।’’ पूर्व नौकरशाह ने कहा, ‘‘मेरी अपील भी यही है कि जीवित रहेंगे तो लड़ पाएंगे।’’ फैसल ने दावा किया कि क्षेत्रों में तैनात सुरक्षा बलों के शारीरिक हाव भाव ‘बहुत कड़े’ हैं और जम्मू कश्मीर पुलिस को ‘पूरी तरह’ किनारे कर दिया गया है। 

उन्होंने आरोप लगाया , एक व्यक्ति ने मेरे परिचित शख्स से कहा कि अब हम तुम्हें तुम्हारी सही जगह दिखाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘ कई जगहों से स्थानीय लोगों को तंग करने की खबरें मेरे पास आ रही हैं। यह काफी खुशी की बात है कि कश्मीरी शांत हैं।’’ फैसल ने लोगों को कुछ वक्त तक कश्मीर की यात्रा नहीं करने की सलाह दी क्योंकि कफ्र्यू में रियायत के बाद भी स्थिति अस्थिर बनी रहेगी। 

उन्नाव बलात्कार पीड़िता मामले में दिल्ली कोर्ट ने दिया मीडिया को खास निर्देश

उन्होंने कहा, ‘‘ हवाई अड्डे पर, मैंने दुखी युवाओं की भीड़ से मुलाकात की। वे मुझसे पूछ रहे हैं कि हमें क्या करना चाहिए। मैंने कहा कि हम एक साथ उच्चतम न्यायालय जाएंगे और इस नाइंसाफी को बदलने को कहेंगे। सभी सियासी पार्टियां इन असंवैधानिक कानूनों को चुनौती देने के लिए एकजुट हैं। ये कानून हमें हमारे इतिहास और पहचान से वंचित करते हैं।’’ उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय पर कश्मीर को लेकर आंखें मूंदने का आरोप लगाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.