Saturday, Jan 22, 2022
-->
jammu and kashmir terrorists firing on security forces in kulgam 2 soldiers injured prshnt

J-K: कुलगाम में सुरक्षाबलों पर आतंकियों ने की फायरिंग, 2 जवान घायल

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर (Jammu-kashmir) में आतंकी (Terrorist) अपने हरकतों से बाज नहीं आ रहें है, आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षा बलों पर हमला किया है। जम्मू कश्मीर के कुलगाम (Kulgam district) में सुरक्षाबलों पर आतंकियों ने की फायरिंग की है जिसमें 2 जवान घायल हो गए है। दोनों घायल जवानों को पास के अस्पाताल में भेज दिया गया है। 

Tractor Rally Violence: 22 के खिलाफ FIR, दिल्ली पुलिस की प्रेस कॉन्फेंस आज

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों ने रविवार को लश्कर-ए-तैयबा के एक ठिकाने को खोज निकाला और एक आतंकवादी के सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सुरक्षा बलों को दक्षिण कश्मीर के इस जिले के चंधारा पंपोर गांव के अवंतीपुरा इलाके के एक घर में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के छिपे होने की जानकारी मिली, सूचना मिलने के बाद तलाशी अभियान चलाया गया जिसमें एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया।

राजस्थान में भीषण सड़क हादसा, मौके पर 8 लोगों की मौत 

ठिकाने से गोला-बारूद बरामद
सुरक्षा बलों ने कहा कि अवंतीपुरा इलाके में तलाशी अभियान के दौरान एक गोशाला में आतंकवादियों का ठिकाना मिला है, जिसे अब नष्ट कर दिया गया। उन्होंने बताया लश्कर के एक आतंकवादी के सहयोगी आदिल अहमद शाह को गिरफ्तार किया गया है जो कि चंधारा पंपोर का निवासी है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि ठिकाने से गोला-बारूद का जखीरा मिला है, जिसमें एके-47 राइफल के 26 कारतूस शामिल हैं।

IMF का भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अनुमान, 2021 में 11.5% दर रहेगी बृद्धि

जम्मू-कश्मीर में हो रहा बदलाव
दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर की फिजा लगातार बदल रही है। पिछले साल धारा 370 हटाये जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को गहरा धक्का लगा है। इस बाबत जम्मू कश्मीर पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने अपने एक बयान में कहा है कि  फिलहाल जम्मू-कश्मीर में महज 270 आतंकवादी ही सक्रिय है जो पिछले सालों के अपेक्षा बेहद कम है।

उन्होंने कहा कि साल 2020 में आतंकवादी घटनाओं में कमी आई है। तो वहीं घुसपैठ और आमजनों की हत्या की घटनाओं में अभूतपूर्व कमी आई है। जो राहत की बात है। उन्होंने कहा कि पिछले साल ही 100 से अधिक आतंकवाद विरोधी सफल अभियान चलाये गए। जिसमें लगभग 225 आतंकवादी ढ़ेर किये गए। वहीं वर्तमान पर नजर दौड़ाया जाए तो कुल 270  आतंकवादियों में 205 कश्मीर घाटी में सक्रिय है।  

पटरी पर लौटती अर्थव्यवस्था को किसान आंदोलन से झटका, अब तक हुआ करोड़ों का नुकसान

आतंकी गतिविधियों को गहरा धक्का
मालूम हो कि जम्मू-कश्मीर में 2019 में 421 और 2020 में 300 आतंकी सक्रिय थे। जिसमें 2018 में 257 और 2019 में 160 आतंकी मारे गए। दिलबाग सिंह ने स्वीकार किया कि किश्तवाड़-डोडा और पुंछ सहित जम्मू क्षेत्र में पीर पंजाल श्रेणी के दक्षिण में आतंकी गतिविधि में लिप्त पाए गए है। जिस पर पैनी नजर है। वहीं उन्होंने कहा कि आतंकी गतिविधियों को तब गहरा धक्का लगा जब आतंकियों के आका की सफाई करने में सफलता मिली। जिससे नए भर्ती पर एकदम से रोक लग गई।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.