Monday, Mar 01, 2021
-->
jammu-kashmir-former-cm-mehbooba-mufti-said-youth-had-no-jobs-join-terrorism-prsgnt

J&K के युवा हैं बेरोजगार, बंदूक उठाने के अलावा नहीं है कोई और विकल्प- बोलीं महबूबा मुफ्ती

  • Updated on 11/9/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आतंकवाद के खात्मे को लेकर जम्मू-कश्मीर में सरकार जहां अभियान चला कर आतंक का अंत करने की कोशिश कर रही है तो वहीँ जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती ने आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला एक विवादित बयान दिया है। 

महबूबा मुफ्ती ने अपने ताजा बयान में कहा है कि जम्मू कश्मीर के युवा बेरोजगार हैं और उनके पास बंदूक उठाने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है। 

श्रीनगर: जमीन कानून के विरोध के बाद हिरासत में ली गई महबूबा, बोलीं- यहीं है सामान्य हालात ?

उन्होंने इसके साथ ही केन्द्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि आज घाटी के युवाओं के पास नौकरी नहीं है और यही कारण है कि आज आतंकी कैंप में भर्तियां बढ़ने लगी हैं। उन्होंने केन्द्र सरकार पर जम्मू कश्मीर की जमीन बेचने का आरोप लगाते हुए कहा कि बाहर के लोग यहां आकर नौकरी करेंगे लेकिन हमारे जम्मू-कश्मीर के बच्चों को नौकरी नहीं मिलेगी!

इससे पहले भी महबूबा मुफ़्ती ने केन्द्र पर आरोप लगाते हुए कहा था, 'ये लोग (बीजेपी) जम्मू-कश्मीर के संसाधन लूट के ले जाना चाहते हैं। बीजेपी ने गरीब को दो वक्त की रोटी नहीं दी, वो जम्मू-कश्मीर में ज़मीन क्या खरीदेगा? दिल्ली से रोज एक फ़रमान जारी होता है, अगर आपके पास इतनी ताकत है तो चीन को निकालो जिसने लद्दाख की ज़मीन खाई है, चीन का नाम लेने से थरथराते हैं।'

370 हटाने को लेकर महबूबा का केंद्र पर हमला,कहा- जम्मू-कश्मीर में पैदा किए 'प्रेशर कुकर' जैसे हालात 

एक कार्यक्रम के दौरान महबूबा मुफ्ती ने जम्मू में बात कही। बता दें, महबूबा मुफ्ती इन दिनों जम्मू के दौरे पर हैं और यहां कई तबकों के लोगों से मुलाकात कर रही हैं। उन्होंने साफ करते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 हिंदू या मुसलमानों से जुड़ा मुद्दा नहीं है, बल्कि यह यहां के लोगों की पहचान है। केन्द्र सरकार ने संविधान के साथ खिलवाड़ किया है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी ने कश्मीरी पंडितों से किया वादा भी पूरा नहीं किया है।

मुफ्ती ने कहा कि ‘आर्टिकल 370 जम्मू कश्मीर की डोगरा संस्कृति को बचाने के लिए था। चाहे देश का झंडा हो या जम्मू कश्मीर का झंडा, वो हमें संविधान ने दिया था। हमसे हमारा झंडा छीन लिया गया है।’ उन्होंने यह भी कहा कि आज उनका वक्त है , कल हमारा आएगा।

चीन से थरथराते हैं और कश्मीर में लूटने का कानून', PDP का दफ्तर सील होने पर भड़कीं महबूबा मुफ्ती

इस बारे में उन्होंने पहले भी अपने बयान दिया था। उन्होंने कहा था,  एक समय आएगा जब केंद्र लोगों से 'हाथ जोड़कर' पूछेगा कि वे तत्कालीन राज्य के विशेष दर्जे की बहाली के अलावा और क्या चाहते हैं। मुफ्ती ने हिरासत से अपनी रिहाई के बाद अपने पहले सार्वजनिक कार्यक्रम में कहा, 'उन्होंने (केंद्र) लोगों की आवाज को दबा दिया है और उन्हें बात करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। यह एक प्रेशर कुकर की तरह है ... उन्होंने ऐसा माहौल बनाया है। लेकिन जब प्रेशर कुकर में विस्फोट होता है तो यह पूरे घर को जला देता है।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.