Sunday, Feb 18, 2018

यशपाल मलिक का दावा, हरियाणा के मंत्रियों और प्रदेशाध्यक्ष ने CM खट्टर के खिलाफ रची थी साजिश

  • Updated on 2/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने आज गंभीर आरोप लगाया कि जाट आंदोलन के दौरान हरियाणा के कुछ मंत्रियों और प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने सीएम मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ साजिश रची थी। 

मायावती बोलीं- 'मिलिटेंट' स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा तो भागवत को क्यों चाहिए सरकारी कमांडो?

जींद में मीडिया से बात करते हुए मलिक ने दावा किया कि भाजपा संगठन में हरियाणा के सीएम पद को लेकर भीतर की लड़ाई है। इस वजह से जाट आंदोलन को खूनी आंदोलन बनाने की बड़ी साजिश रची गई थी। 

आरएसएस पर हमलावर राहुल गांधी, बोले- संघ के दवाब में पीएम मोदी ने लागू की नोटबंदी

उन्होंने यह भी दावा किया कि इस साजिश में सुभाष बराला, सरकार के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु और ओम प्रकाश धनखड़ भी संलिप्त थे। भाजपा के इन नेताओं ने हरियाणा को बांटने की साजिश रची थी। मलिक ने कहा कि भाजपा के कुछ नेता अभी भी नहीं चाहते थे कि सरकार और जाटों के बीच समझौता हो। 

मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार के खिलाफ सक्रिय अल्पेश ठाकोर, भाजपा को दिया बड़ा चैलेंज

मलिक ने बताया कि उनकी सरकार से अच्छे माहौल में चर्चा हुई है। इसलिए भरोसा है कि उनकी सभी मांगो पर हरियाणा सरकार गंभीरता से फैसले लेने शुरू कर देगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने 6 फरवरी को ही कुछ केस खारिज करने की भी प्रक्रिया शुरू कर दी है। 

टीम इंडिया के खिलाफ टी-20 सीरीज में डुमिनी होंगे दक्षिण अफ्रीका के कप्तान

दरअसल, हरियाणा सरकार ने रविवार को जाट आरक्षण संघर्ष समिति की मांगों को स्वीकार कर लिया था। इसके बाद जाटों ने भी 15 फरवरी को जींद में आयोजित होने वाली अपनी रैली को टाल दिया। इसी दिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को शहर में एक बाइक रैली भी करनी है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.