Wednesday, Oct 27, 2021
-->
javed akhtar defamation case bombay high court setback to bollywood kangana ranaut rkdsnt

जावेद अख्तर मानहानि केस : बॉम्बे हाई कोर्ट ने कंगना रनौत को दिया झटका

  • Updated on 9/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को अभिनेत्री कंगना रनौत की वह याचिका खारिज कर दी, जिसमें गीतकार जावेद अख्तर की शिकायत पर उनके खिलाफ शुरू की गई मानहानि की कार्यवाही को रद्द करने का आग्रह किया गया था। उच्च न्यायालय की न्यायाधीश रेवती मोहिते डेरे ने आदेश में कहा कि कार्यवाही शुरू करने के अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के आदेश में कोई प्रक्रियात्मक अवैधता या अनियमितता नहीं है।   

JNU बेस्ट यूनिवर्सिटीज की NIRF रैंकिंग में दूसरा पायदान पर, डीयू 12वें स्थान पर

  रनौत ने अपने वकील रिजवान सिद्दिकी के मार्फत मानहानि की कार्यवाही को चुनौती दी थी। याचिका में कहा गया था कि उपनगर अंधेरी की मजिस्ट्रेट अदालत ने इस मामले में स्वतंत्र रूप से शिकायतकर्ता (अख्तर) या गवाहों की जांच नहीं की तथा पूरी तरह जुहू पुलिस द्वारा दायर रिपोर्ट पर निर्भर रही।  वकील सिद्दिकी ने तर्क दिया कि अख्तर की शिकायत पर पुलिस की जांच ÞएकतरफाÞ थी। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने अवैध रूप से गवाहों से हस्ताक्षरित बयान लिए।  

‘हिंदू आईटी सेल’ के विकास पांडे ने गबन मामले में पत्रकार राना अयूब पर केस दर्ज कराया

     अख्तर के वकील जय भारद्वाज ने हालांकि पीठ से कहा था कि मजिस्ट्रेट ने अख्तर की शिकायत और साक्षात्कार के अंश पर गौर करने के बाद पुलिस जांच का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि उस साक्षात्कार के दौरान रनौत ने कथित मानहानिकारक टिप्पणियां की थीं।  उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि अंधेरी अदालत ने दंड प्रक्रिया संहिता के तहत निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया था और मजिस्ट्रेट ने व्यक्तिगत रूप से अख्तर की जांच की और विस्तृत शिकायत पर गौर किया।   

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की पत्नी नीलम, बेटे नीतेश के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर

   उच्च न्यायालय ने कहा कि जहां तक आदेश जारी करने की प्रक्रिया का संबंध है, यह सिर्फ पुलिस रिपोर्ट पर आधारित नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता के बयान, सीडी व पेन-ड्राइव, पुलिस रिपोर्ट तथा रिकॉर्ड के अन्य दस्तावेजों का संयुक्त विश्लेषण है।  अदालत ने कहा कि पुलिस द्वारा गवाहों से लिए गए हस्ताक्षरित बयान अवैध नहीं थे और उनकी विश्वसनीयता की बाद में मजिस्ट्रेट की अदालत द्वारा जांच की जा सकती है।   

यूपी में हर पार्टी भाग रही है ब्राह्मणों के पीछे

  अख्तर ने रनौत के खिलाफ एक टीवी साक्षात्कार में कथित रूप से मानहानिकारक टिप्पणी करने एवं बेबुनियाद आरोप लगाने को लेकर पिछले साल नवंबर में अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष शिकायत दर्ज करायी थी।      मजिस्ट्रेट अदालत ने दिसंबर 2020 में, जुहू पुलिस को रनौत के खिलाफ अख्तर की शिकायत की जांच करने का निर्देश दिया था और फिर उनके खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू की। इस साल फरवरी में अभिनेत्री के खिलाफ समन जारी किया गया था।     

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.