Saturday, Apr 04, 2020
jet-airways-services-paused-passenger-hassles

जेट एयरवेज की सर्विस बंद होने से यात्री परेशान, दूसरी फ्लाइट्स के लिए करनी पड़ रही जेब ढीली

  • Updated on 4/19/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जेट एयरवेज (Jet Airways) के विमानों की उड़ानों पर रोक लगने से जहां 20 हजार कर्मचारी अचानक बेरोजगार हो गए हैं। वहीं यात्रियों को भी काफी परेशानी हो रही हैै। जिन्होंने कई माह पहले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिए जेट के विमानों की सस्ती टिकटें बुक करा ली थीं, उनको अब दूसरे एयरलाइन की टिकटें दो से पांच गुने दाम पर खरीदनी पड़ रही है।

जेट एयरवेज की उड़ानों के बंद होने से अन्य एयरवेज के जहाजों में यात्रियों के लिए जगह कम पडऩे लगी है। इस वजह से हवाई किराया रातोंरात बढ़ गया। मुंबई-दिल्ली, मुंबई-बेंगलुरु, मुंबई-कोलकाता और मुंबई-चेन्नई जैसे रूटों के लिए उड़ान से कुछ घंटे पहले के टिकटों के दाम पिछले वर्ष इसी वक्त के मुकाबले दोगुने हो गए।

अखिलेश यादव आज आजमगढ़ से करेंगे नामांकन, सपाईयों में दिखा भारी जोश

मुंबई-चेन्नई टिकट के लिए सभी कंपनियों का किराया पिछले वर्ष के 5,369 रुपये के मुकाबले बढ़कर 26,073 रुपये हो गया। जानकारी को मानना है कि गर्मी की छुट्टियां करीब आने के कारण हवाई टिकटों के दाम में कमी आने की कोई संभावना नहीं है।

स्थिति यह है कि अब किसी भी कंपनी के विमान से मुंबई-दिल्ली की यात्रा पर 15,518 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं जबकि पिछले वर्ष मार्च में 6,577 रुपये का ही टिकट लग रहा था। इसी तरह मुंबई-बेंगलुरु के लिए 2,600 रुपये की जगह 16,000 रुपये वसूले जा रहे हैं। 

पाकिस्तान एयर स्पेस (Pakista Air Space) अब भी बंद
जेट एयरवेज के बंद होने के साथ ही पुलवामा हमले के बाद भारत द्वारा पाकिस्तान में किए गए एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत से जाने वाले अपने एयर स्पेस को बंद कर दिया था। जो आज भी जारी है। इसके कारण पहले ही कई अंतरराष्ट्रीय उड़ाने या तो रद्द हो रही थीं, या फिर उसके टिकट मूल्य को एयरलाइन कंपनियों ने काफी बढ़ा दिया था। 

दूसरे चरण के चुनाव में वोट डालने पहुंचे ये दिग्गज नेता और सेलेब्रिटीज 

जेट की अंतिम फ्लाइट 
श्रीगुरु रामदास अमृतसर इंटरनेशनल एयरपोर्ट राजासांसी से बुधवार रात सवा दस बजे जेट एयरवेज की फ्लाइट ने मुंबई के लिए अपनी अंतिम उड़ान भरी। इसमें 91 यात्री सवार थे। यह फ्लाइट दिल्ली से अमृतसर और वहां से मुंबई के लिए निकली थी। फ्लाइट बुधवार रात साढ़े नौ बजे अमृतसर एयरपोर्ट पर उतरी थी। इसी फ्लाइट ने रात सवा दस बजे मुंबई के लिए उड़ान भरी।

क्यों बढ़ा जेट का संकट? 
इस संकट का कारण जेट से एतिहाद के बाहर निकलने के निर्णय और जेट के चेयरमैन नरेश गोयल एवं बैंकरों की ओर से पेश रेजॉलुशन प्लान पर बात नहीं बनना है। सहमति पत्र के मसौदे के अनुसार एतिहाद से 29.4 प्रतिशत स्टेक के बदले 1,600-1,900 करोड़ रुपये लगाने की उम्मीद दी गई थी।

25 प्रतिशत स्टेक होने पर ओपन ऑफर लाना जरूरी हो जाता है। लेंडर्स को 1,000 करोड़ रुपये लगाने थे और जेट में 29.5 प्रतिशत स्टेक लेना था। वहीं गोयल के पास करीब 17 प्रतिशत हिस्सा रहेगा और प्रस्तावित शर्त के मुताबिक कभी भी उनका हिस्सा 22 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होना है। 

प्रियंका गांधी के वाराणसी से चुनाव लड़ने पर बोले राहुल, सस्पेंस रहेगा बरकरार

पांच साल में 8 एयरलाइन बंद
गत 10 वर्ष में भारत के घरेलू विमानन उद्योग में 10 फीसदी से अधिक की वृद्धि हुई है। पर उसके उलट मात्र पांच साल में आठ एयरलाइनें बंद हो गई हैं। इसमें जेट भी एक है। बंद हुए एयरलाइनों में एयर पेगासस, एयर कोस्टा, एयर कार्निवल, एयर डेक्कन, एयर ओडिशा, जूम एयर और किंगफिशर शामिल हैं। 

10 मई से पहले उम्मीद नहीं
एसबीआई की अगुवाई वाले कर्जदाताओं के समूह ने कहा है कि एयरलाइन को किसी भी तरह का फंड पाने के लिए 10 मई तक इंतजार करना होगा। इससे पहले राशि उपलब्ध कराने पर कोई फैसला नहीं लिया जा सकता है।

बैंकों ने बताया कि कंपनी की हिस्सेदारी बेचने के लिए बोली की अंतिम समय-सीमा 10 मई निर्धारित की है और जब तक कोई कानूनी खरीदार सामने नहीं आता, नया फंड जारी करना मुश्किल होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.