Friday, May 07, 2021
-->
JJP MLA appeals to PM Long run of farmers movement is dangerous prshnt

JJP विधायक ने PM से की अपील- किसान आंदोलन का लंबा चलना है खतरनाक, इसे जल्द कराएं खत्म

  • Updated on 3/16/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली की सीमाओं पर लगभग चार महिने से किसान संगठन सरकार के तीन नए कृषि कानूनों (New Farm Law) के खिलाफप डटे हुए हैं। ऐसे में इन किसानों को कई बड़ी हस्तियों समेत कई राजनीतिक पार्टियों का साथ भी मिल रहा है। जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janata Party) के विधायक राम कुमार गौतम (Ram Kumar Gautam) ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से अनुरोध किया कि वह प्रदर्शनकारी किसानों से बात करें। राम कुमार गौतम ने कहा कि कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग का समर्थन करने के बावजूद उनके जैसे लोग गांवों में नहीं जा पा रहे है। गौतम ने कहा, मैं मोदी जी से अनुरोध करता हूं कि वार्ता के जरिए इस आंदोलन को जल्द से जल्द खत्म कराएं। इसका लंबा चलना खतरनाक हो सकता है।

हरियाणा विधानसभा में  राम कुमार गौतम ने कहा कि भाजपा-जेजेपी विधायकों को कई गांवों में प्रदर्शन का सामना करना पड़ा है, लोग गांवों में नहीं घुस पा रहे, यहां तक कि मेरे जैसे लोग भी जो किसानों के पक्ष में हैं, जो उनके आंदोलन का समर्थन करके कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।

सेना भर्ती घोटाला: कपूरथला-बठिंडा समेत 30 जगह छापे, 17 सैन्य अफसरों पर केस दर्ज

नेताओं के बहिष्कार के खिलाफ विधानसभा ने प्रस्ताव पारित किया
दरअसल केंद्र के कृषि कानूनों को लेकर हरियाणा विधानसभा ने सोमवार को एक प्रस्ताव पारित कर नेताओं के बहिष्कार के किसी भी प्रयास की निंदा की और  कई गांवों में सत्तारूढ़ गठबंधन के नेताओं के विरोध के बाद यह कदम उठाया गया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा प्रस्ताव पेश करने के बाद कांग्रेस ने सदन का बहिष्कार किया। प्रस्ताव में कहा गया कि अगर कोई संगठन या समाज का कोई तबका किसी भी दल के नेता के बहिष्कार की बात करता है तो यह सदन इसकी निंदा करने का प्रस्ताव रखता है। 

अब जर्मनी और फ्रांस सहित 5 देशों ने लगाई एस्ट्राजेनेका वैक्सीनेशन के इस्तेमाल पर रोक

सत्यपाल मलिक का किसानों का समर्थन
बता दें कि इससे पहले सत्यपाल मलिक जो हाल ही में मेघालय के राज्यपाल नियुक्त किए गए हैं ने किसानों के समर्थन में आते हुए कहा कि, कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में चल रहे आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार को किसानों की बात सुननी चाहिए, उन्हें खाली हाथ न लौटाएं, उन्होंने कहा एमएसपी पर कानून बने। किसानों पर बलप्रयोग करना उचित नहीं है, सिख कौम 300 साल तक किसी बात को नहीं भूलती।

आरिफ के मामले में बोला कोर्ट, तब तक फांसी पर लटकाएं जब तक जान न निकल जाए

अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कही ये बात
सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं भी किसान का बेटा हूं और किसानों का दर्द जानता हूं। यदि मेरी जरूरत पड़े तो मैं भी किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तैयार हूं। मलिक ने यह भी कहा कि उन्होंने जब किसान नेता राकेश टिकैत की गिरफ्तारी की बात सुनी तो फोन करके इसे रुकवाया। मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बागपत के अमीननगर सराय स्थित शीलचंद इंटर कालेज परिसर में आयोजित अपने अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि कानूनों को लेकर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को पत्र लिख चुका हूं। पत्र में लिखा हुआ कि किसानों को खाली हाथ मत लौटाना। यदि ऐसा हुआ तो नुकसान होगा। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.