Thursday, Jan 23, 2020
jjp mla ram kumar gautam resigns as party vice president

हरियाणा: जजपा को लगा झटका, विधायक राम कुमार गौतम ने पार्टी उपाध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

  • Updated on 12/25/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जननायक जनता पार्टी (जजपा) को बुधवार को तब झटका लगा जब उसके विधायक एवं वरिष्ठ नेता राम कुमार गौतम ने पार्टी उपाध्यक्ष पद से यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया कि ‘‘पार्टी जिस तरह से चल रही है वह उससे निराश हैं।’’ गौतम (73) ने कहा कि जजपा नेता दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह अपनी पार्टी के विधायकों के समर्थन से उप मुख्यमंत्री बने हैं।

सुभाष चोपड़ा का बड़ा बयान, बोले -अगर हमारी सरकार आयी तो 600 यूनिट बिजली मुफ्त देंगे

पार्टी में सब कुछ नहीं चल रहा है ठीक
गौतम ने नारनौंद से फोन पर कहा, ‘‘पार्टी में कुछ भी सही नहीं चल रहा है। पार्टी जिस तरह से चल रही है उससे मैं निराश हूं और मैंने पार्टी उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। मुझे पार्टी का अखिल भारतीय उपाध्यक्ष बनाया गया जबकि पार्टी का हरियाणा में एक सीमित क्षेत्र में प्रभाव है।’’ इससे पहले उन्होंने हिसार जिले के नारनौंद स्थित अपने विधानसभा क्षेत्र में मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए पार्टी पद से अपने इस्तीफे के बारे में बात की।

गौतम के पार्टी उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा को लेकर पूछे गए सवाल पर दुष्यंत ने फरीदाबाद (Faridabad) में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुझे इसके बारे में अभी मीडिया के जरिये जानकारी हुई है। हम यह पता लगाएंगे कि उन्होंने इस्तीफा क्यों दिया है।’’ गौतम ने किसी का नाम लिये बिना आरोप लगाया कि जो लोग पार्टी के मामले देख रहे हैं उन्होंने हाल में एक प्रमुख नेता से हाथ मिला लिया है जिसके खिलाफ जजपा ने चुनाव लड़ा था।

यूजर्स को आई केजरीवाल के मफलर की याद, सीएम ने दिया मजेदार जवाब

जजपा ने गौतम को भाजपा के कैप्टन के खिलाफ मैदान में उतारा था
जजपा ने गत अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में गौतम को भाजपा (BJP) के कैप्टन अभिमन्यु के खिलाफ उतारा था। उन्होंने यद्यपि स्पष्ट किया कि वह भाजपा को बहुमत का आंकड़ा हासिल नहीं होने पर उसके साथ जजपा के जाने और गठबंधन सरकार बनाने के खिलाफ नहीं है। यह पूछे जाने पर कि उन्होंने हाल में यह कहा था कि वह दुष्यंत के कारण एक विधायक बने हैं, दुष्यंत ने कहा, ‘‘हां, यह सही है। यद्यपि उन्हें यह भी अहसास होना चाहिए कि वह उप मुख्यमंत्री (Deputy Chief Minister) अपने विधायकों के चलते बने। हमने इसके लिए और अन्य पार्टी उम्मीदवारों के लिए कड़ी मेहनत की।’’

ओवैसी बोले TRS सरकार लगाए NPR गतिविधि पर रोक

जजपा के भाजपा के साथ गठबंधन के बाद मंत्री पद की दौड़ में शामिल गौतम ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) के नेतृत्व वाले कैबिनेट में उन्हें मंत्री नहीं बनाये जाने का कोई असंतोष नहीं है। गौतम ने कहा, ‘‘मैं जजपा के टिकट का आकांक्षी भी नहीं था। यद्यपि दुष्यंत और उनके पिता अजय चौटाला की इच्छा थी कि मुझे उनके साथ आना चाहिए। उन्हें पता था कि मैं ही भाजपा के विधायक कैप्टन अभिमन्यु को हरा सकता हूं।’’

अरुंधति रॉय ने प्रधानमंत्री पर लगाया झूठ बोलने का आरोप, कहा- NPR एनआरसी का डेटाबेस है

दुष्यंत पर साधा निशाना
यद्यपि दुष्यंत पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उप मुख्यमंत्री ने 11 विभाग अपने पास रखे हैं जबकि पार्टी के मात्र एक विधायक को एक कनिष्ठ मंत्री बनाया गया है जिसे एक ‘‘छोटा’’ प्रभार दिया गया है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह पार्टी से इस्तीफा देने के बारे में सोच रहे हैं, गौतम ने कहा, ‘‘लोगों ने मुझे चुना है, मेरी उनके प्रति जिम्मेदारी है। यदि मैं अपनी पार्टी से इस्तीफा देता हूं, मैं अपनी सीट भी गंवा दूंगा और मैं अपने क्षेत्र को अधर में नहीं छोड़ सकता। मैं पार्टी को अपने खून पसीने से सींचा है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.