Monday, Jun 01, 2020

Live Updates: Unlock- Day 1

Last Updated: Mon Jun 01 2020 04:26 PM

corona virus

Total Cases

191,327

Recovered

92,027

Deaths

5,413

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA67,655
  • TAMIL NADU22,333
  • NEW DELHI19,844
  • GUJARAT16,794
  • RAJASTHAN8,831
  • MADHYA PRADESH8,089
  • UTTAR PRADESH8,075
  • WEST BENGAL5,501
  • BIHAR3,807
  • ANDHRA PRADESH3,571
  • KARNATAKA3,221
  • TELANGANA2,698
  • JAMMU & KASHMIR2,446
  • PUNJAB2,263
  • HARYANA2,091
  • ODISHA1,948
  • ASSAM1,340
  • KERALA1,270
  • UTTARAKHAND907
  • JHARKHAND635
  • CHHATTISGARH503
  • HIMACHAL PRADESH330
  • TRIPURA316
  • CHANDIGARH293
  • GOA71
  • MANIPUR71
  • PUDUCHERRY70
  • NAGALAND43
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA27
  • ARUNACHAL PRADESH4
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
jncasr created anti-corona coating applying on clothes and plastic prsgnt

JNCASR ने बनाई एंटी-कोरोना कोटिंग, कपड़ों और प्लास्टिक पर लगाने से मरेंगे कोरोना वायरस!

  • Updated on 4/3/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत आने वाले स्वायत्त संस्थान जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड सांइसटफिक रिसर्च (JNCASR) ने एक एंटी-माइक्रोबियल कोटिंग विकसित की है। इसे कपड़े, प्लास्टिक पर लगाने से कोविड-19 जैसे वायरस मर जाएंगे।  

वायरस को करेगा ऐसा खत्म
रासायनिक पदार्थों को मिलाकर तैयार किए गए इस सहसंयोजक कोटिंग को लेकर किए अनुसंधान संबंधी शोध पत्र को रिसर्च जर्नल 'एप्लाइड मैटेरियल एंड इंटरफेस' ने स्वीकार कर लिया है। शोध में पाया गया कि यह कोटिंग मेथिसिलिन प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस और फ्लुकोनाज़ोल प्रतिरोधी सी. अल्बिकंस एसपीपी सहित रोगजनक बैक्टीरिया और कवक से बचाने के साथ ही इन्फ्लूएंजा वायरस को पूरी तरह खत्म कर देगा।   

कोरोना को भगाना है इम्युनिटी को बढ़ाएं, लीजिए गर्म पानी, हल्दी का दूध और च्यवनप्राश की डोज

ऐसे करेगा लड़ने में मदद
हाल ही में सामने आए सार्स-कोवी-2 हालिया प्रकोप ने वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य में अभूतपूर्व हलचल पैदा की है। कोरोना वायरस भी इन्फ्लूएंजा की तरह ही है। इसलिए यह अनुमान है कि कोटिंग से संपर्क में आने पर सार्स-कोवी-2 को निष्क्रिय कर सकती है और विभिन्न सतहों पर इसे लेपित करने पर यह संक्रमण को रोकने में मदद कर सकती है।

अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि, "आज तक, हमारी जानकारी में कोई सहसंयोजक कोटिंग रणनीति नहीं है जो सभी वायरस, बैक्टीरिया और कवक को खत्म सकती है।" इस कोटिंग को विभिन्न सतहों पर लगाया जा सकता है और इसकी सुलभता और मजबूती कोटिंग की खरीद कुशल कर्मियों की आवश्यकता को पूरा कर सकती है।

आखिर क्यों भारत में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले? पढ़े चौंकाने वाली रिपोर्ट

ये हैं वैज्ञानिक कारण
विकसित अणुओं में यूवी विकिरण पर विभिन्न सतहों के साथ रासायनिक रूप से क्रॉस-लिंक करने की क्षमता होती है। कोटिंग का इस्तेमाल रोगजनकों (यानी बैक्टीरिया) की झिल्ली को निष्क्रिय करने में अग्रणी भूमिका निभा सकता है।

माइक्रोबियल संक्रमण और अलग-अलग सतहों पर इसे लगाने से सामुदायिक संक्रमण को रोकने के साथ-साथ स्वास्थ्य देखभाल व्यवस्था में यह एक प्रमुख भूमिका निभाएगा। इसे ध्यान में रखते हुए, दैनिक जीवन में और साथ ही नैदानिक व्यवस्था में उपयोग की जाने वाली कई प्रकार की वस्तुओं को कोट करने के लिए एक सहज नजरिये के साथ इसे विकसित किया गया था।

क्या कोरोना वायरस के बारे में सब कुछ जानते हैं आप, नहीं? पढ़ें स्पेशल रिपोर्ट

ऐसी है कोटिंग की संरचना
अणु की एक विस्तृत श्रृंखला (जैसे कि पानी, इथेनॉल, क्लोरोफॉर्म इत्यादि) में उनकी इष्टतम घुलनशीलता को ध्यान में रखते हुए और आसानी से और उच्च क्षमता के साथ तीन से चार लेयर वाली सिंथेटिक रणनीति के साथ एक लागत प्रभावी डिजाइन तैयार किया गया था।
अणु कपड़ा, पॉलीयुरेथेन, पॉलीप्रोपाइलीन, पॉलीस्टीरिन आदि विभिन्न वस्तुओं पर लगे होते हैं, जो कि हमारे आस-पास दिखाई देने वाली अधिकांश वस्तुओं का निर्माण करते हैं।

क्यों कोरोना के लिए जरुरी हैं क्वारंटाइन और आइसोलेशन, पढ़ें खास रिपोर्ट

ऐसे की जाएगी कोटिंग
कोटिंग करने के लिए इसे पानी में मिलाकर कपड़े की चादर को उसमें डुबोना होगा। जबकि अन्य मामलों में इथेनॉल सब्सट्रेट पर यूवी विकिरण के द्वारा इसकी कोटिंग की जाती है। कोटिंग के बाद, सतहों का मूल्यांकन उनके जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और एंटीवायरल गतिविधि के लिए किया जा चुका है। कोरोना वायरस के मौजूदा प्रकोप को ध्यान में रखते हुए, यदि इसका इस्तेमाल किया जाए, तो कॉन्ट्रैक्ट रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (CRO) के माध्यम से अणु को बड़े पैमाने पर संश्लेषित किया जा सकता है.

साथ ही निजी संगठनों के साथ मिलकर इसे विभिन्न व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरण जैसे मास्क, दस्ताने, गाउन आदि पर लेपित किया जा सकता है। इस कोटिंग को अस्पताल-अधिग्रहित या नोसोकोमियल संक्रमण से बचने के लिए अन्य चिकित्सा उपकरणों और उपकरणों पर भी लेपित किया जा सकता है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.