Monday, Jun 27, 2022
-->
jnu alumnus sharad wins bronze at tokyo paralympics 2020

जेएनयू के पूर्व छात्र शरद ने टोक्यो पैरालंपिक 2020 में जीता कांस्य

  • Updated on 9/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने वीरवार को संस्थान के पूर्व छात्र शरद कुमार के टोक्यो पैरालंपिक 2020 में हाई जम्प में ब्रांज मेडल जीतने को लेकर प्रसन्नता जाहिर की है। विवि. ने कहा कि शरद की कहानी बहुत प्रेरणादायक है। बिहार में स्थित मुजफ्फरपुर जिले के शरद को 18 वर्ष की उम्र में पैरालिटिक एटैक पड़ा था। लेकिन उस पैरालिटिक अटैक को शरद के समर्पण, दृढ़ संकल्प और धैर्य के कारण पीछे होना पड़ा।

गेट परीक्षा 2022 के पंजीकरण हुए शुरू

जेएनयू से इंटरनेशनल स्टडीज में किया है एमए 
शरद विश्व के सर्वोच खेल ओलंपिक में पदक जीतने में सफल हुए। जीवन में कुछ कर गुजरने का सपना लेकर ही शरद बिहार से जेएनयू तक पहुंचे थे। जहां उन्होंने इंटरनेशनल पॉलिटिक्स में स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज से एमए किया। उनकी दृढ़ विस्वास और अंतराष्ट्रीय स्तर पर सफल एथलीट बनने की कहानी आने वाली पीढिय़ों के लिए प्रेरणा बनेगी।

AIIMS निदेशक ने किया स्कूल खोलने का समर्थन, बच्चों के वैक्सीनेशन पर दी ये जानकारी

शरद कुमार और उनके माता- पिता का जेएनयू करेगा सम्मान 
शरद के कांस्य पदक जीतने पर जेएनयू समुदाय ने उनके माता-पिता को सलाम भेजा है। क्योंकि उन्हीं के सहयोग और प्रेरणा से शरद ने अपनी शिक्षा और खेल का प्रशिक्षण प्राप्त किया। जिसकी बदौलत वह टोक्यो पैरालंपिक 2020 में 1.83 मीटर की हाई जंप लगाने में सफल हुए। विवि. ने शरद कुमार और उनके माता-पिता को विवि. कैंपस में आमंत्रित किया है। ताकि विवि. अपने पूर्व छात्र की सफलता का जश्न मना सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.