Thursday, Feb 25, 2021
-->

JNU के कुलपति ने यूपी में भाजपा की जीत को विकास की जीत बताया, सोशल मीडिया पर किए गए ट्रोल

  • Updated on 3/11/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। जेएनयू के कुलपति जगदीश कुमार को आज सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग का सामना करना पड़ा जब उन्होंने उत्तर प्रदेश में भाजपा की जीत का श्रेय ‘विकास’ और ‘समावेशिता’ को दिया।

कुमार विज्ञान भारती से जुड़े हुए थे। यह आरएसएस की एक शाखा है जो स्वदेशी विज्ञान आंदोलन में शामिल है। उसके बाद उन्हें जेएनयू का कुलपति बनाया गया। उनपर अक्सर भाजपा के निर्देश पर काम करने और संघ से उनके जुड़ाव का आरोप लगाया जाता रहा है।

उन्होंने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों का उल्लेख करते हुए आज सुबह अपने ट्वीट में कहा, ‘‘भारत के लोगों ने एकबार फिर जोरदार तरीके से दर्शाया है कि हम विकास और समावेशिता के पक्ष में हैं।’’ कुमार ने वही ट्वीट कुछ पत्रकारों को भी भेजा, जिसपर तीखी प्रतिक्रिया आई।

ट्विटर पर लोगों ने शीघ्र उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। लोगों ने कहा कि इतने बड़े पद पर बैठे ऐसे व्यक्ति को यह शोभा नहीं देता है।

कुमार के ट्वीट के जवाब में सनी धीमान ने कहा, ‘‘आपने कहा कि मैं संघी नहीं हूं या भाजपा सदस्य नहीं हूं। आप भूल गए हैं कि आप किसी विश्वविद्यालय के कुलपति हैं, भाजपा उम्मीदवार नहीं हैं।’’

एक अन्य व्यक्ति ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘और एक केंद्रीय विश्वविद्यालय का कुलपति सुर में सुर मिला रहा है।’’

एक ट्वीट में कहा गया है, ‘‘जेएनयू के कुलपति भाजपा की जीत पर अपनी खुशी पर नियंत्रण नहीं कर सके।’’

जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन के पूर्व अध्यक्ष वी लेनिन कुमार ने कहा, ‘‘जेएनयू के कुलपति ने भाजपा की जीत पर ट्वीट किया--सरजी अब चलिये राम मंदिर बनाएंगे।’’

एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘यह एक केंद्रीय विश्वविद्यालय के शीर्ष पद पर बैठे व्यक्ति को शोभा नहीं देता है कि वह इस तरीके से अपनी संबद्धता का खुलासा करे।’’
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.