Sunday, Mar 07, 2021
-->
jnu clarifies reservation for disabled students in delhi high court rkdsnt

JNU ने दिल्ली हाई कोर्ट में दिव्यांगों के आरक्षण को लेकर दी सफाई

  • Updated on 7/1/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) ने बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट से कहा कि उसने दिव्यांग छात्रों के लिए पांच प्रतिशत आरक्षण के आदेश का कभी उल्लंघन नहीं किया है और 2020-21 के शैक्षणिक वर्ष में सभी पाठ्यक्रमों में यह मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

कोरोनिल को लेकर हाई कोर्ट ने बाबा रामदेव, राज्य, केंद्र को जारी किए नोटिस

जेएनयू ने मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ के समक्ष दाखिल एक हलफनामे में यह दावा किया। पीठ ने 11 जून को एक याचिका पर नोटिस जारी किया था। याचिका में दावा किया गया है कि जेएनयू ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 में दिव्यांग श्रेणी के लिए पांच प्रतिशत से कम सीटें रखी हैं। 

पूर्व जस्टिस लोकूर बोले- न्यायपालिका तय करे कि अधिकारों का अतिक्रमण न कर पाए पुलिस

यह याचिका दिव्यांग व्यक्तियों के कल्याण के लिए काम करने वाले संगठन जावेद आबिदी फाउंडेशन ने दायर की है। याचिका में अनुरोध किया गया है कि जेएनयू को उसकी दाखिला नीति और विवरणिका (प्रॉस्पेक्टस) में संशोधन करने के लिए निर्देश दिए जाएं। 

प्रियंका गांधी वाड्रा को बड़ा झटका, खाली करना होगा लोधी स्टेट हाउस

जेएनयू ने केंद्र सरकार की स्थायी वकील मोनिका अरोड़ा के माध्यम से दायर अपने हलफनामे में इस आरोप का खंडन किया है कि वह दिव्यांग छात्रों के लिए पांच प्रतिशत सीटें नहीं आरक्षित कर रही है। 

शशांक मनोहर ने ICC का अध्यक्ष पद छोड़ा, गांगुली पद के मुख्य दावेदार

उसने कहा कि वह दिव्यांग छात्रों को अपने विभिन्न केंद्रों और स्कूलों के लगभग सभी पाठ्यक्रमों में आरक्षण प्रदान कर रहा है। जेएनयू ने यह भी दावा किया कि विश्वविद्यालय के नियम और दिव्यांगता कानून के अनुरूप हैं। मामले में अगली सुनवाई 8 जुलाई को होगी।

आयुष मंत्रालय ने किया साफ - पतंजलि की कोरोनिल नहीं है कोरोना की दवाई

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.