Monday, Dec 09, 2019
jnu student protest against fees hike new hostel manual

JNU में हुई स्वामी विवेकानंद की मूर्ति से तोड़फोड़, फाड़े कपड़े

  • Updated on 11/14/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्व विद्यालय में फीस बढ़ोत्तरी के हंगामें के बीच खबर आयी है कि वहां विश्वविद्यालय परिसर में स्थित स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) की मूर्ति के साथ शरारती तत्वों ने छेड़छाड़ की है। मूर्ति को जो भगवा वस्त्र धारण कर रखा है किसी ने उसे पीछे से फाड़ दिया है। 

फीस बढ़ोतरी को लेकर जेएनयू (JNU) में चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। छात्रों की आंशिक मांगे प्रशासन ने मान ली हैं, लेकिन छात्रों की मांग है कि फीस बढ़ोतरी को पूरी तरह से वापस लिया जाना चाहिए। प्रशासन पर गुस्साए छात्रों ने स्वामी विवेकानंद की मूर्ती के नीचे 'भगवा जलेगा' जैसी अभद्र बातें लिखी हैं। अपनी मांग को लेकर छात्र दो सप्ताह से आंदोलनरत हैं। 

छात्रों ने बुधवार को एडमिन ब्लाक (Admin Block) का घेराव कर जमकर नारेबाजी की। इसके साथ ही उन्होंने एडमिन ब्लॉक में स्थित कुलपति प्रो एम जगदीश कुमार के ऑफिस के बाहर लगी उनकी नेम प्लेट में कालिख पोत थी। उनकी दीवार के बार ये भी लिख दिया गाय है कि आप हमारे कुलपति नहीं हैं, आप संघ की शाखा में वापस चलें जाएं। कुलपति की ऑफिस की दीवार में छात्रों ने सेल्फी प्वॉइंट भी लिख दिया है। 

#JNU फीस वापसी को छात्रों, अध्यापकों ने बताया दिखावा, मोदी सरकार पर बरसे

'ऑफिस में नहीं बैठे कुलपति'
आंदोलन कर रहे छात्रों का कहना है कि कुलपति कई दिनों से अपने ऑफिस में बैठे ही नहीं हैं। हम उनसे मिलने की कई कोशिशें कर चुके हैं। छात्रों का कहना है कि यदि वो हमारे कुलपति होते तो वो हमसे मुलाकात करते, लेकिन दो सप्ताह से उनका कोई पता नहीं है, इसलिए हमने उनके ऑफिस के बाहर लिख दिया है कि आप हमारे कुलपति नहीं हैं। 

JNU मामला: छात्रों के प्रदर्शन के आगे झुकी मोदी सरकार, वापस ली बढ़ी हुई फीस

'विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों से डरा हुआ है'
छात्रों का कहना है कि विश्वविद्यालय में कोई समस्या होने पर कुलपति ट्वीट कर देते हैं लेकिन उसके लिए न तो कोई कदम उठाते हैं न ही छात्रों से मिलकर उनकी समस्या सुनते हैं। कन्वेंशन सेंटर में एग्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक आयोजित होने वाली थी लेकिन उसकी भी जगह बदल दी गई। ऐसा लगा रहा है कि विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों से डरा हुआ है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने भी छात्रों को इस समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया, लेकिन कुलपति के पास हमारे लिए समय ही नहीं है। 

#JNU में फीस वृद्धि को लेकर छात्रों में खौफ, सता रहा घर वापस लौटने का डर

28 अक्टूबर का फैसला वापस लेने की मांग
छात्रों का कहना है कि ये कोई ऑनलाइन सेल नहीं है जो कि हॉस्टल मैनुअल और बढ़ी हुई फीस में छात्रों को 10 से 5 प्रतिशत की छूट दी जा रही है। छात्रों ने स्पष्ट रूप से कह दिया है कि जब तक विश्वविद्यालय प्रशासन 28 अक्टूबर को जारी किए गए अपने फैसले को वापस नहीं लेता और कुलपति उनसे नहीं मिलते तब तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.