Thursday, Feb 27, 2020
jnu student sharjeel imam 3 arrested

फरार शरजील इमाम की तलाश में घर पर छापेमारी, मणिपुर में मामला दर्ज

  • Updated on 1/27/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान शाहीन बाग (Shaheen Bagh) और जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) में भड़काऊ भाषण देने के आरोपी शरजील इमाम के खिलाफ मणिपुर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है।

पुलिस ने कहा कि इमाम के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (भादंसं) की धारा 121 ए (भारत के खिलाफ युद्ध छेडऩे की साजिश), 124 ए (राजद्रोह), 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र) और 153 के तहत मामला दर्ज किया गया है। धारा 153 च्च् अशांति लाने की मंशा से विभिन्न धार्मिक समूहों के बीच शत्रुता पैदा करने’ से संबंधित है। यह प्राथमिकी 16 जनवरी को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में दिए गए उसके भाषण के लिए शनिवार को दर्ज की गई।

मणिपुर के मुख्यमंत्री के सलाहकार रजत सेठी ने ट्वीट किया, शरजील इमाम के आपत्तिजनक वीडियो का संज्ञान लेते हुए, जिसमें वह पूर्वोत्तर को देश से अलग करने की धमकी दे रहा है, मणिपुर पुलिस ने धारा 121/ 121-ए/ 124-ए/ 120-बी/ 153 के तहत प्राथमिकी दर्ज की है।’ मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने उनके ट्वीट को शेयर किया। शरजील के कथित भड़काऊ भाषण सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उसके खिलाफ राजद्रोह के आरोप लगाए गए हैं। इन भाषणों में उसे संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के मद्देनजर असम को भारत से अलग करने के बारे में बोलते हुए सुना जा सकता है। 

इसके पहले, शरजील के पैतृक घर पर यहां की पुलिस ने छापेमारी की। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। जहानाबाद के पुलिस अधीक्षक (एसपी) मनीष कुमार के मुताबिक, काको थानाक्षेत्र में पड़ने वाले इमाम के घर पर रविवार की रात छापे मारे गए।

तीन लोगों की हुई गिरफ्तारी
उन्होंने बताया कि जेएनयू शोधार्थी के खिलाफ दर्ज मामलों की जांच कर रही केंद्रीय एजेंसियों की तरफ से मदद मांगे जाने’’ के बाद यह कार्रवाई की गई। एसपी ने बताया कि इमाम अपने घर पर नहीं मिला लेकिन पूछताछ के लिए उसके दो रिश्तेदारों और उनके चालकों को हिरासत में लिया गया और बाद में छोड़ दिया गया। आईआईटी मुंबई (IIT Mumbai) से कंप्यूटर साइंस में स्नातक, शरजील इमाम जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) के सेंटर फॉर हिस्टोरिकल स्टडीज से शोध करने के लिए दिल्ली आया था।

बड़ा खुलासाः CAA Protest के दौरान PFI के अकाउंट से कांग्रेस नेता को ट्रांसफर हुए करोड़ों!

शरजील के कथित भड़काऊ भाषणों के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उसके खिलाफ राजद्रोह के आरोप लगाए गए हैं। इन भाषणों में उसे सीएए के मद्देनजर असम को भारत से अलग करने के बारे में बोलते हुए सुना जा सकता है। इससे पहले अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) परिसर में दिए गए भाषण को लेकर इसी आरोप में अलीगढ़ के थाने में शरजील के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके अलावा, असम में शरजील के खिलाफ सख्त आतंकवाद विरोधी कानून यूएपीए के तहत एक मामला दर्ज किया गया है। शरजील के दिवंगत पिता अकबर इमाम स्थानीय जदयू नेता थे, जिन्होंने अपने जीवनकाल में विधानसभा चुनाव भी लड़ा था पर हार गए थे।

मां ने कहा मेरा बेटा निर्दोष
घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए शरजील की मां अफशान रहीम ने मीडिया से कहा, मेरा बेटा निर्दोष है। उसने एनआरसी (NRC) को लेकर परेशानी को देखते हुए चक्का जाम की बात कही होगी जिससे शायद सरकार पर असर पड़े। वह नौजवान है , कोई चोर या पॉकेटमार नहीं। मैं खुदा की कसम खा कर कहती हूं कि मुझे नहीं पता कि वह कहां है। ‘‘लेकिन मैं गारंटी देती हूं कि मामलों की जानकारी होने पर वह जांच एजेंसियों के सामने पेश होगा और जांच में पूरी तरह सहयोग करेगा।’’ उन्होंने कहा कि लंबे समय से वह अपने बेटे से नहीं मिली हैं लेकिन कुछ हफ्ते पहले उनकी फोन पर बातचीत हुई थी। रहीम ने कहा, वह सीएए और देश में एनआरसी लागू होने के भय से परेशान था।

एअर इंडिया की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, 17 मार्च तक की डेडलाइन

उसने कहा था कि इससे मुस्लिम (Muslim) ही नहीं बल्कि सभी गरीब लोग परेशान होंगे।’’ उन्होंने कहा कि असल में शाहीन बाग प्रदर्शन के करीब 15 दिन बाद उसने प्रदर्शनकारियों से वहां से हट जाने को कहा था और एक महीने तक स्थिति देखने तथा फिर भविष्य के कदम पर फैसला लेने को कहा था। रहीम ने कहा, लेकिन वे लोग पीछे हटने को तैयार नहीं हुए। वह ‘चक्काजाम’ का आह्वान कर रहा था। वह बच्चा है और लोगों को अलगाव के लिए उकसाने की उसमें सामर्थ्य नहीं है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.