Wednesday, Dec 08, 2021
-->
joe biden wins us presidential election trumped leave white house rkdsnt

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन ने मारी बाजी, ट्रंप की हुई छुट्टी

  • Updated on 11/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने बाजी मार ली है। इस तरह डोनाल्ड ट्रंप की व्हाइट हाउस से छुट्टी हो गई है। इसके साथ ही बाइडेन और उपराष्ट्रपति पद की प्रत्याशी सीनेटर कमला हैरिस ने सार्वजनिक स्वास्थ्य और अर्थव्यवस्था पर तवज्जो देने का काम शुरू कर दिया है। ये दोनों क्षेत्र कोविड-19 महामारी के कारण बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। 

दीपिका पादुकोण की मैनेजर की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई स्थगित

ताजे अनुमान के मुताबिक, बाइडेन 538 में से 270 इलेक्टोरल कॉलेज वोट हासिल कर चुके हैं। इस तरह उन्हें जीत हासिल करने के लिए इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिल गए हैं। उन्होंने डेलावेयर के बाइडेन ने अपने प्रचार अभियान के मुख्यालय से देश के नाम संबोधन में कहा, 'अंतिम परिणाम का इंतजार करते हुए, मैं चाहता हूं कि लोग जाने कि हम काम करने के लिए इंतजार नहीं कर रहे हैं।' 77 वर्षीय पूर्व उपराष्ट्रपति ने कहा, 'मैं चाहता हूं कि हर कोई जाने कि पहले दिन से हम इस वायरस को नियंत्रित करने के लिए अपनी योजना लागू करने जा रहे हैं। इससे जान गंवा चुके लोगों को नहीं लौटाया जा सकता, लेकिन आने वाले महीनों में बहुत सी जिंदगियों को बचाया जा सकेगा।'

कमला हैरिस की जीत, तमिलनाडु में जश्न का माहौल
अमेरिकी चुनाव में उप राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार भारतवंशी कमला हैरिस की जीत की संभावनाएं प्रबल होने के साथ ही तमिलनाडु के दो गांवों में उत्सव का माहौल है। हैरिस के नाना-नानी के गांवों के लोगों को भी पूरा भरोसा है कि उनकी बेटी विजयी रहेंगी। राज्य के तिरुवरूर जिले में स्थित तुलासेंतिरापुरम गांव और पेंगानाडु गांव में उत्सव का माहौल है और यहां के लोगों को जश्न शुरू करने के लिए इंतजार है तो बस इस औपचारिक घोषणा का कि जो बाइडेन के साथ-साथ कमला हैरिस भी चुनाव जीत चुकी हैं। 

बिहार विधानसभा चुनाव : टुडेज चाणक्य के एग्जिट पोल में NDA पर भारी महागठबंधन

लोग आतिशबाजी की तैयारी कर चुके हैं जबकि महिलाएं गांव के मंदिर के सामने बड़ी सी रंगोली बनाने वाली हैं। लोगों को गर्व है कि हैरिस इस गांव से संबंध रखती हैं। इन दोनों गांवों तक जाने वाली सड़कें जो बाइडेन और कमला हैरिस की जीत की कामनाएं करने वाले पोस्टरों और डिजिटल बैनरों से पटी हैं। इससे पहले दो नवंबर को हैरिस के लिये स्थानीय मंदिर में विशेष प्रार्थना का आयोजन किया गया था। हैरिस के नाना पी.वी. गोपालन पूर्व राजनयिक तथा तुलासेंतिरापुरम गांव के निवासी थे। उनकी नानी राजम नजदीक के पेंगानाडु गांव से हैं। 

बाइडेन की टीम ने व्हाइट हाउस के लिये तैयारियां शुरू कीं 
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुनाव के नतीजों के आने के बाद बाइडेन की टीम ने व्हाइट हाउस के लिये तैयारियां शुरू कर दी हैं। अमेरिका के विभिन्न राज्यों में अभी मतगणना जारी है, लेकिन लंबे समय से बाइडेन के करीबी टेड कौफमैन बाइडेन की जीत की सूरत में सरकार गठन की कवायद में जुट गए हैं। डेलावर से पूर्व सीनेटर कौफमैन बाइडेन के उप राष्ट्रपति बनने के बाद इस सीट से सीनेटर बने थे। वह 2008 में ओबामा सरकार का गठन करने वाली टीम का भी हिस्सा थे। 

‘वन रैंक, वन पेंशन’ को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

बाइडेन ने डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उम्मीदवार बनने के कुछ ही समय बाद अप्रैल में पहली बार कौफमैन से ऐसी सूरत में सत्ता के हस्तांतरण पर काम शुरू करने के लिये कहा था। अमेरिका में सत्ता के हस्तांतरण की प्रक्रिया आधिकारिक रूप से तब शुरू होती है जब सामान्य सेवा प्रशासन सभी उपलब्ध तथ्यों के आधार पर विजेता के नाम की घोषणा कर देता है।

धोखाधड़ी के ट्रंप के दावों को खारिज किया 
अमेरिका में मतगणना रोकने की मांग, धोखाधड़ी के आरोपों और विपक्ष पर चुनाव जीतने के लिए गलत तरीकों का इस्तेमाल करने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खेमे के आरोपों के बीच दुनिया के अनेक देशों ने शुक्रवार को इस तरह के रुख की निंदा की। जिन देशों को अमेरिका चुनाव कराने के तरीकों पर नसीहत देता रहा है, वे अब आलोचना कर रहे हैं और सवाल उठा रहे हैं कि क्या अमेरिका जैसे लोकतांत्रिक व्यवस्था वाले देश के राष्ट्रपति इस तरह के दावे कर सकते हैं। 

यशवर्धन सिन्हा बने नए CIC, तीन चुनाव आयुक्तों ने भी ली शपथ

कोलंबिया के दैनिक अखबार पब्लिमेट्रो ने अमेरिका के झंडे के प्रिंट वाले मास्क पहने एक व्यक्ति की तस्वीर के साथ पहले पन्ने पर खबर का शीर्षक दिया है, ‘‘अब बनाना रिपब्लिक कौन है?’’ अनेक मीडिया संस्थानों ने बृहस्पतिवार को ट्रंप से कन्नी काटना शुरू कर दिया जब उन्होंने अमेरिकी चुनाव प्रणाली को लेकर सवाल खड़े करने शुरू किये। अमेरिका लंबे समय से दुनियाभर में प्रभुत्व वाली रणनीतियों का मुखर आलोचक रहा है। अब उनमें से ही कुछ देश अमेरिका पर उंगली उठा रहे हैं।

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.