Tuesday, Dec 07, 2021
-->
Journalist Priya Ramani put her side in Delhi court BJP MP MJ Akbar case rkdsnt

एमजे अकबर मामले में प्रिया रमानी ने कोर्ट में रखी अपनी दलीलें

  • Updated on 9/14/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पत्रकार प्रिया रमानी ने दिल्ली की एक अदालत को सोमवार को बताया कि 2018 में ‘मी टू’ मुहिम के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर (MJ Akbar) ने ‘‘अपने खिलाफ यौन उत्पीड़न के ढेर सारे मामलों को रोकने के लिए’’ आपराधिक मानहानि की शिकायत के जरिए उन्हें ‘‘चुनिंदा तरीके से निशाना’’ बनाया। 

रेल लाइन के किनारे बनी झुग्गियों को लेकर मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रखा पक्ष

अकबर द्वारा रमानी के खिलाफ दायर शिकायत में अंतिम सुनवाई के दौरान रमानी ने अपने वकील के जरिए अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विशाल पाहूजा के सामने यह दलील दी। ‘मी टू’ मुहिम के दौरान रमानी ने 2018 में अकबर पर करीब 20 साल पहले यौन उत्पीडऩ का आरोप लगाया था, जब वह पत्रकार थे। 

भ्रष्टाचार सूचकांक में भारत की खराब रैंकिंग, सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई PIL

अकबर ने 17 अक्टूबर 2018 को केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। रमानी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील रेबेका जॉन ने सोमवार को अदालत को बताया कि ‘मी टू’ मुहिम के दौरान 14 से ज्यादा महिलाओं ने अकबर पर आरोप लगाए लेकिन उन्होंने केवल रमानी के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी। 

पंजाब के CM अमरिंदर ने कृषि अध्यादेश पर शिरोमणि अकाली दल को दी चुनौती

जॉन ने कहा, ‘‘प्रिया रमानी को चुङ्क्षनदा तरीके से निशाना बनाया गया...या तो हर किसी का आलेख और ट्वीट मानहानिकारक है या किसी का भी नहीं है। या फिर अन्य आरोपों को स्वीकार कर लिया गया।’’ 

दिल्ली दंगे: येचुरी के समर्थन में उतरी कांग्रेस, दिल्ली पुलिस निशाने पर

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

comments

.
.
.
.
.