Friday, Jun 21, 2019

न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन को हिमाचल HC का मुख्य न्यायाधीश बनाने की सिफारिश

  • Updated on 5/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय (supreme court) के कॉलेजियम ने एक प्रस्ताव पारित कर मद्रास उच्च न्यायालय (madras high court) के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन (v rama subramanian) को हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त करने की सिफारिश की है।

कांग्रेस ने एटीएम की तरह किया रक्षा सौदों का इस्तेमाल: मोदी 

प्रधान न्यायाधीश (CJI) न्यायमूर्ति रंजन गोगोई (ranjan gogoi) की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने 10 मई को यह प्रस्ताव पारित किया। कॉलेजियम ने अपने प्रस्ताव में कहा, ‘‘कॉलेजियम की ओर से आठ मई को की गई सिफारिशों के अनुरूप हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति सूर्यकांत (surya kant) की उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीश पद पर तरक्की के कारण हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश का पद खाली हो जाएगा।

दुनिया की सबसे बड़ी रेडियो दूरबीन के ‘मस्तिष्क’ का डिजायन तैयार

लिहाजा, उच्चतम न्यायालय (supreme court) ने कहा कि हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद पर नियुक्ति की जरूरत होगी। मद्रास उच्च न्यायालय से वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन तबादले के कारण अभी तेलंगाना उच्च न्यायालय में कार्यरत हैं।

न्यायालय की वेबसाइट पर गलत सूचना डालने वाले बर्खास्त कर्मचारी को जमानत मिली 

प्रस्ताव में कहा गया कि सभी प्रासंगिक पहलुओं को देखते हुए कॉलेजियम का विचार है कि हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद (Chief Justice) पर नियुक्ति के लिए न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन (rama subramanian) हर तरह से योग्य हैं। यह सिफारिश करते वक्त कॉलेजियम ने इस बात को भी ध्यान में रखा है कि मद्रास उच्च न्यायालय से अभी सिर्फ एक मुख्य न्यायाधीश हैं।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.