Monday, Apr 12, 2021
-->
kailash kher singer supporting caa with modi bjp govt on citizenship to non muslims

कैलाश खेर ने शाहीन बाग प्रदर्शन के बीच किया #CAA का समर्थन, जाहिर किए जज्बात

  • Updated on 2/1/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का समर्थन करते हुए मशहूर गायक कैलाश खेर ने शनिवार को इंदौर में कहा कि इसके प्रावधानों के जरिये उन शरणार्थियों को भारत द्वारा अपनाये जाने का रास्ता साफ हो गया है जो पड़ोसी मुल्कों में सताये जा रहे थे। 

चिदंबरम ने मोदी सरकार के आम बजट 2020-21 को 10 में से इतने दिए नंबर

खेर ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'सीएए का मतलब आप और हम जानते हैं। इस कानून के जरिये (पड़ोसी देशों के) ऐसे प्रताडि़त लोगों को नागरिकता दी जा रही है जो कभी (वर्ष 1947 में भारत के विभाजन से पहले) अपने ही थे। इसी अपनत्व के कारण उन्हें गैरों के यहां से वापस (भारत) लौटना पड़ा।'

उन्होंने कहा, 'अब इन लोगों को अपनाया जा रहा है, तो सबको खुशी होनी चाहिये। अगर इन लोगों को अपनाये जाने से किसी व्यक्ति को आपत्ति है, फिर तो यह कष्ट का विषय है।' गौरतलब है कि सीएए में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक प्रताडऩा के कारण 31 दिसम्बर 2014 तक भारत आये हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन हेतु पात्र बनाने का प्रावधान किया गया है। 

बजट 2020 : जानिए लोकपाल और CVC के लिए कितना है बजट प्रावधान

जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के नजदीक सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के समूह पर गोली चलाये जाने की हालिया घटना के बारे में पूछे जाने पर 46 वर्षीय गायक ने कहा कि वह इस विषय में पूरी जानकारी हासिल करने के बाद ही कोई टिप्पणी कर सकेंगे। 

Budget 2020 में ऐसे ही नहीं मिलेगा नई टैक्स छूट का फायदा, छोड़नी होंगी रियायतें

हिन्दी फिल्मों के पुराने गीतों को नये अंदाज में पेश किये जाने का चलन बढ़ने पर खेर ने कहा, 'वैसे तो गुजरे दौर के गानों को नये रूप में गाने की परंपरा पुरानी है। लेकिन गड़बड़ तब होती है, जब गाने के नये संस्करण को इस तरह गाया जाये कि इसमें मूल गीत का कोई वजूद ही न बचे।'
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.