Thursday, Oct 06, 2022
-->
kanhaiya kumar cpim cpi also raised questions on workers labour laws targets bjp govt rkdsnt

मजदूरों के मुद्दे पर कन्हैया कुमार ने भी उठाए सवाल, निशाने पर सरकार

  • Updated on 5/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार कोरोना संकट के दौरान बहुत कम सोशल मीडिया पर नजर आ रहे हैं, लेकिन जब भी आते हैं तो किसी न किसी मुद्दे को छेड़ जाते हैं। वह अकसर सरकार से सवाल करते हुए कई बड़े सवाल खड़े कर जाते हैं। देश के मुद्दों पर कन्हैया अपनी बातों को दमदार तरीके से रखते हैं और फिर से उन्होंने मजदूरों के मुद्दे पर सरकार से सवाल किए हैं। 

200 वेंटिलेटर : डोनेशन के वादे से मुकरे ट्रंप, भारत को चुकानी होगी मोटी रकम!

रामायण, महाभारत के बहाने सुब्रमण्यम स्वामी ने इशारों में साधा मोदी सरकार पर निशाना!

कन्हैया कुमार का कहना है कि जब सरकार को प्रदेश के मजदूरों के बारे में जानकारी नहीं है तो उनके लिए घोषित योजनाओं का क्या हश्र होगा। अपने ट्वीट में वह लिखते हैं, 'जब सरकार को यही नहीं मालूम है कि किस राज्य के कितने मजदूर कहाँ काम करते हैं तो फिर उनके कल्याण के लिए की गई घोषणा की हकीकत क्या होने वाली है, इसका अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं। सरकार से सिर्फ इतना भर पूछ लें कि देश में मजदूरों की संख्या क्या है? तो भी आपको देशद्रोही कहा जा सकता है!'

मजदूरों को लेकर प्रियंका की मुहिम रंग लाई, योगी सरकार ने स्वीकारा कांग्रेस का बस प्रस्ताव

गुजरात: वेंटिलेटर्स की जगह निकले Ambu bags, जिग्नेश-प्रशांत के निशाने पर CM रुपानी

एक अन्य ट्वीट में वह मीडिया को भी आड़े हाथ लेते है, जो सरकार की हां में हां मिलाकर हर कदम को मास्टरस्ट्रोक करार देती है। बकौल कन्हैया, 'सरकारों का दावा है कि वो मजदूरों का ख्याल रख रही हैं। कैसे? मजदूरों को सुरक्षा देने वाले देश के श्रम कानूनों को खत्म करके! है न कमाल की बात? राग दरबारियों की भाषा में इसी बेशर्मी को कहते हैं- "मास्टर स्ट्रोक"'

जस्टिस काटजू बोले- BJP अकेले मौजूदा संकट से नहीं निपट सकती, इसलिए PM मोदी...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.