Friday, May 07, 2021
-->
kapil sibal said that conspiracy is being hatched to break the farmer movement sohsnt

कपिल सिब्बल बोले- किसान आंदोलन को तोड़ने के लिए रचे जा रहे हैं षड्यंत्र

  • Updated on 1/30/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों (Farm laws) के विरोध में किसानों का विरोध प्रदर्शन आज 64वें दिन भी लगातार जारी है। गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा के बाद से इस आंदोलन ने एक नया रूप धारण कर लिया है। आंदोलन को लेकर अब नेताओं की बयानबाजी शुरू हो गई है। इसी क्रम में कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने बिना नाम लिए केंद्र सरकार पर हमला बोला है।

'किसानों को बदनाम न करें, वे अपने जीवन और भविष्य के लिए संघर्ष कर रहे हैं'- अमरिंदर सिंह


आंदोलन को तोड़ने के लिए कई षड्यंत्र- कपिल सिब्बल
कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, 'बिना इजाजत के कोई लाल किले में नहीं पहुंच सकता। वे लोग सीधा लाल किला चले गए और वो लोग खुद कह रहे हैं कि हमें किसी ने नहीं रोका। आंदोलन को तोड़ने के लिए कई षड्यंत्र रचे जा रहे।'  

किसान प्रदर्शन को लेकर NDA में दरार! PM की अगुवाई में होने वाली बैठक से RLP- LJP ने किया किनारा

आज एकदिवसीय भूख हड़ताल पर किसान
बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा 30 जनवरी यानी आज पूरे देश में किसान आंदोलन को सद्भावना दिवस के रूप में मना रहा है। इस मौके पर किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि दिल्ली समेत पूरे देश में जहां-जहां कृषि कानूनों के खिलाफ धरना-प्रदर्शन हो रहे हैं, वहां आज सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक भूख हड़ताल की जाएगी। इसके साथ ही संयुक्त किसान मोर्चा ने न सिर्फ आंदोलनकारियों बल्कि सभी देशवासियों से अपील की है कि वे इस एकदिवसीय भूख हड़ताल में शामिल हों।

Farmer Protest: सरकार की रणनीति से बदला आंदोलन का नजारा, सीमाओं पर बढ़ी किसानों की संख्या

किसानों आंदोलन के बदनाम करने की साजिश
किसानों की ट्रैक्टर रेली को दौरान हुई हिंसा के लिए अब विपक्षी पार्टियों समते संयुक्त किसान मोर्चा ने भी बीजेपी को जिम्मेदार माना है। मोर्चा ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र सरकार और भाजपा मिलकर किसान आंदोलन को बदनाम करने के भरसक प्रयास कर रहे हैं। गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई हिुंसा का जिक्र करते हुए मोर्चा ने कहा कि ये भाजपा का प्लानिंग थी। इस हिंसा का सहारा लेकर किसानों आंदोलन के बदनाम किया जा रहा है। मोर्चा ने कहा कि 99 प्रतिशत लोगों किसानों ने तय रास्ते पर ही ट्रैक्टर रेली निकाली थी, लेकिन भाजपा के लोगों ने लाल किले पर जाकर उपद्रव मचाया और वहां लूटपाट की, इस घटना से संयुक्त किसान मोर्चा का कोई लेना देना नहीं है और न ही इसमें हमारा कोई आदमी शामिल था।

गाजीपुर समेत आसपास के इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक, भूख हड़ताल पर आंदोलनकारी किसान

दिल्ली की सीमाओं पर इंटरनेट सेवा बंद
उधर. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 29 जनवरी को रात 11 बजे से 31 जनवरी को रात 11 बजे तक के लिए सिंघु, गाजीपुर, टिकरी बॉर्डर और उनके आस-पास के इलाकों में इंटरनेट सेवाओं को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है। इससे पहले गाजीपुर बॉर्डर पर समेत आस-पास के इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई थी, जिसके बाद सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर भी इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.