Friday, May 07, 2021
-->
karnataka former deputy cm g parameshwara income tax raids seized five crore rupees

कर्नाटक के पूर्व उपमुख्यमंत्री के ठिकानों पर दूसरे दिन भी छापेमारी, पांच करोड़ रुपये जब्त

  • Updated on 10/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आयकर विभाग (Income Tax Department) ने कर्नाटक (Karnataka) के पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर (G. Parameshwara) और अन्य के खिलाफ मारे गए छापों के दौरान करीब पांच करोड़ रुपये नकद बरामद किए हैं। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि गुरुवार से शुरू की गई छापेमारी करीब 25 स्थानों पर अब भी जारी है।

कर्नाटक उपचुनाव 5 दिसंबर को, 17 MLA को अब तक नहीं मिली चुनाव लड़ने की इजाजत

इस छापेमारी के तहत, आयकर विभाग के 300 से ज्यादा अधिकारी कर्नाटक में कांग्रेस के दो प्रमुख नेताओं से जुड़े परिसरों में दाखिल हुए। इन नेताओं में पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और पूर्व सांसद आरएल जालप्पा के बेटे जे राजेंद्र शामिल हैं। अधिकारियों ने कहा है कि ये छापेमारी नीट परीक्षाओं से जुड़े कई करोड़ रुपए के कर चोरी मामले के संबंध में की जा रही है।

विभाग के सूत्रों ने बताया कि परमेश्वर से संबंधित कार्यालय, आवास और संस्थानों पर छापा मारने के अलावा, आयकर अधिकारियों ने उनके भाई जी शिवप्रसाद और निजी सहायक रमेश के घर की भी तलाशी ली। परमेश्वर का परिवार सिद्धार्थ ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स (Siddhartha Group Of Institutions) का संचालक है जिसकी स्थापना उनके पिता एच एम गंगाधरैया ने 58 साल पहले की थी। वहीं राजेंद्र डोडाबल्लापुरा और कोलार में आर एल जलप्पा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Indian Institutes of Technology) चलाते हैं।

कर्नाटक में चुनाव प्रक्रिया में SC का 'हस्तक्षेप' संवैधानिक दृष्टि से चौंकाने वाला: कांग्रेस

अधिकारियों ने बताया कि नीट परीक्षाओं से जुड़े मामले में करोड़ों रुपये की कर चोरी के संबंध में परमेश्वर और अन्य के ठिकानों पर यह छापेमारी की गई है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में विभिन्न स्थानों और राजस्थान के कुछ हिस्सों में कुल 30 परिसरों पर छापेमारी की जा रही है जिसमें 300 से अधिक आयकर अधिकारी शामिल हैं। उनके साथ पुलिसकर्मी भी हैं।

विभाग ने तुमकुर में एक न्यास के दो मेडिकल कॉलेजों में नीट की परीक्षाओं में कथित अनियमितताओं पर अंकुश लगाने के वास्ते अपनी जांच के तहत यह कदम उठाया है। बताया जाता है कि परमेश्वर श्री सिद्धार्थ एजुकेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं।

कर्नाटक विस चुनाव: कांग्रेस में शुरू हुआ प्रत्याशियों के चयन के लिए मंथन 

अधिकारियों ने बताया कि नीट की परीक्षा में किसी अन्य के स्थान पर परीक्षा देने से संबंधित कथित फर्जीवाड़े और सीटें पाने के लिए कथित रूप से अवैध भुगतान करने की बात सामने आने पर विभाग हरकत में आया। उन्होंने कहा कि परीक्षा में दूसरों के स्थान पर बैठने वालों का पता लगाने के लिए राजस्थान में तलाशी की जा रही है। छापेमारी के बीच बेंगलुरु पहुंचे परमेश्वर ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उनके पास इस बारे में कोई सूचना नहीं है कि छापेमारी क्यों की जा रही है।

उन्होंने कहा, 'मेरे पास कोई सूचना नहीं है कि छापेमारी क्यों की जा रही है। उन्होंने (आयकर अधिकारियों) मुझे बुलाया। इसलिए उनसे मिलने आया हूं।' परमेश्वर ने कहा कि उनका परिवार शिक्षण संस्थान चलाने के सिवाय कोई और व्यवसाय नहीं करता और वह समय पर आयकर भरता रहा है। उन्होंने इस सवाल पर कोई टिप्पणी नहीं की कि क्या छापेमारी राजनीति से प्रेरित है। परमेश्वर मई, 2018 से जुलाई, 2019 तक कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री थे।     

कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई की बेनामी संपत्ती पर एक्शन, 150 करोड़ का होटल जब्त

कांग्रेस ने बताया बदले की राजनीति
पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया (CM Siddaramaiah) और जनता दल (एस) के प्रमुख एवं पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा (H. D. Deve Gowda) ने छापेमारी की निंदा की। सिद्धारमैया ने ट्वीट किया, 'डॉ. परमेश्वर, आर एल जलप्पा और अन्य पर सिलसिलेवार छापे दुर्भावना के साथ राजनीति से प्रेरित हैं।' उन्होंने कहा, 'वे सिर्फ कांग्रेस कर्नाटक के नेताओं को निशाना बना रहे हैं क्योंकि वे नीतिगत और भ्रष्टाचार के मुद्दों पर हमारा सामना करने में विफल हुए हैं। हम इस सबके सामने नहीं झुकेंगे।' देवगौड़ा ने कहा, "यह निन्दनीय है।" वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने छापों को ‘‘बदले की राजनीति’’ करार दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.