Sunday, Feb 23, 2020
Kashmiri Pandits and protesters clash in Shaheen Bagh shouting slogans

CAA: शाहीन बाग में भिड़े कश्मीरी पंडित और प्रदर्शनकारी, जमकर की नारेबाजी

  • Updated on 1/19/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग पिछले महीने भर से चर्चा में है। आज उस वक्त फिर शाहीन बाग में विवाद पैदा हो गया जब सैकड़ों कश्मीरी पंडितों का जत्था पहुंचा तो हाथापाई की नौबत आ गई। इस प्रदर्शनकारियों ने 'कश्मीरी पंडितों को न्याय दो' जैसे नारे लगाए। कश्मीरी पंडितों ने दावा किया कि आज इस जगह पर 'जश्न-ए-शाहीन' कार्यक्रम मनाने की तैयारी चल रही है। जो आज ही के दिन 30 साल पहले कश्मीर से पंडितों को घाटी छोड़ने के लिये मजबूर कर दिया गया था।

CAA पर विपक्ष की बैठक में बोलीं सोनिया गांधी, मोदी- शाह ने देश को गुमराह किया

विपक्षी पार्टियों ने दिया प्रदर्शनकारियों को समर्थन

मालूम हो कि नागरिकता कानून के संसद से पास होने के बाद से ही न सिर्फ विपक्षी पार्टियां बल्कि हजारों छात्रों ने सड़कों पर उतरकर मोदी सरकार पर वापस लेने के लिये दवाब बनाया है। इसी सिलसिले में दक्षिण दिल्ली के शाहीन बाग तब चर्चा में आया जब सैंकड़ों की संख्या में महिलाओं ने कपकपाती ठंड में भी सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया है। हालांकि इस प्रदर्शन को सभी विपक्षी पार्टियों का समर्थन हासिल है।

भारत बंद से सम्पत्ति को क्षति और जनजीवन अस्त-व्यस्त

रासुका लगने के बाद दिल्ली पुलिस ले सकती है सख्त निर्णय

अभी हाल ही में मणिशंकर अय्यर ने भी शाहीन बाग पहुंचकर अपना समर्थन दिया। तो वहीं कई मुस्लिम संगठनों ने भी शाहीन बाग में भारी संख्या में महिलाओं के प्रदर्शन को सराहा है। तो मोदी सरकार पर इन महिलाओं के आवाज को दबाने के लिये कोई कदम उठाने को लेकर शंका भी जाहिर किया है। इस बीच हाईकोर्ट तक जब शाहीन बाग मसला पहुंचा तो दिल्ली पुलिस को मामले को निपटारे करने का आदेश भी दिया गया है। लेकिन जब दिल्ली पुलिस ने अपील की तो प्रदर्शनारी उग्र हो गए। इधर रासुका लगाकर दिल्ली पुलिस प्रदर्शनकारियों को हटाने की योजना पर तेजी से बढ़ रही है।
 

comments

.
.
.
.
.