Wednesday, Jul 24, 2019

भूस्खलन से केदारनाथ यात्रा ठप, यमुनोत्री-गंगोत्री व हरकीदून घाटी की ऊंची चोटियां बर्फ से ढकीं

  • Updated on 9/24/2018

देहरादून/ब्यूरो। केदारनाथ में 36 घंटों से बारिश के साथ तेज हवाओं के कारण तीर्थ यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। वहीं, उच्च हिमालयी चोटियों में बर्फबारी के कारण धाम में भारी ठंड भी हो रही है। यमुनोत्री एवं गंगोत्री धाम के साथ ही हरकीदून घाटी की ऊंची चोटियां बर्फ से ढक गई हैं। बारिश के साथ ही बर्फबारी से प्रदेश में तापमान में गिरावट आई है, जिससे लोगों को ठिठुरन का सामना करना पड़ रहा है।

गौरीकुंड केदारनाथ पैदल मार्ग पर भारी बारिश के कारण कई स्थानों पर भूस्खलन और पहाड़ी दरकने से मार्ग अवरुद्ध हो गया है। सोमवार दोपहर केदारनाथ पैदल मार्ग पर लिनचोली के पास पहाड़ी से मलबा आने के कारण मार्ग बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है, करीब 20 मीटर हिस्सा ध्वस्त हो गया। जिससे यहां पर प्रशासन ने यात्रियों की आवाजाही पर रोक लगा दी है, साथ ही गौरीकुंड से केदारनाथ जाने वाले यात्रियों को वापस भेज दिया गया है। 

लोकायुक्त पर सदन में हंगामा, बहिष्कार, सदन में बिल पेश नहीं होने से कांग्रेस नाराज

लगातार हो रही बारिश के कारण मलबा हटाने का कार्य शुरू नहीं हो सका है। पैदल मार्ग को खुलने में अभी एक दिन लग सकता है, वहीं फाटा में भी गौरीकुंड हाईवे पर दरार पड़ गई है, जिससे सुबह आठ बजे यहां पर आवाजाही ठप पड़ी है। यमुनोत्री एवं गंगोत्री धाम क्षेत्र में 8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। बदरीनाथ हाईवे पर लामबगड़ में रविवार अपराह्न 3 बजकर 20 मिनट पर मलबा आ गया। 

बारिश के चलते मार्ग खोलने में एनएच के कर्मचारियों को काफी परेशानी हुई। मलबा अधिक आने पर उसे सोमवार दोपहर 1 बजकर 20 मिनट पर खोला जा सका। लेकिन आधे घंटे बाद ही यहां पर फिर मलबा आ गया और मार्ग बंद हो गया। फिर करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद करीब साढ़े चार बजे तक मार्ग खोला जा सका।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.