Saturday, Jul 31, 2021
-->
kejriwal-aap-govt-informs-court-to-withdraw-order-to-build-covid-center-in-hotel-rkdsnt

केजरीवाल सरकार ने अदालत को दी  होटल में कोविड सेंटर बनाने का आदेश वापस लेने की सूचना 

  • Updated on 4/29/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली सरकार ने बृहस्पतिवार को उच्च न्यायालय को बताया कि उसने न्यायाधीशों, उनके स्टाफ और परिवारों के लिए यहां एक पांच सितारा होटल में कोविड-19 केंद्र बनाने का आदेश वापस ले लिया है। जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की पीठ ने इस संबंध में सरकार के नये आदेश पर गौर किया और 27 अप्रैल को स्वत: संज्ञान लेते हुए अदालत द्वारा दायर याचिका का निस्तारण कर दिया। 

TMC ने पूछा- चुनाव आयोग ने अधिकारियों, CRPF के लिए कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य क्यों नहीं की

अदालत ने उन खबरों पर संज्ञान लिया था ,जिसमें कहा गया कि राष्ट्रीय राजधानी में अशोका होटल के 100 कमरों को दिल्ली उच्च न्यायालय के अनुरोध पर उसके न्यायाधीशों के लिए कोविड स्वास्थ्य केंद्र में तब्दील कर दिया गया है। अदालत ने कहा था कि उसने इस प्रकार का केंद्र बनाए जाने का कोई अनुरोध नहीं किया है। 

 

 पीएम मोदी ने की वायु सेना के कोरोना संबंधी अभियान की समीक्षा

 

सुनवाई शुरू होने पर दिल्ली सरकार के स्थायी वकील संतोष के त्रिपाठी ने पीठ को सूचित किया कि होटल के 100 कमरों को न्यायाधीशों और उनके परिवारों के लिए कोविड-19 केंद्र बनाने का अनुरोध करने वाले 25 अप्रैल के आदेश को तुरंत प्रभाव से वापस ले लिया गया है। अदालत ने 27 अप्रैल को कहा था कि वह ऐसा केंद्र बनाने के लिए नहीं कह सकता जो कि भेदभावपूर्ण है और इस संबंध में एसडीएम का आदेश बहुत ही गुमराह करने वाला है।     पीठ ने कहा, ‘‘यह बहुत ज्यादा गुमराह करने वाला है। उच्च न्यायालय ने किसी भी ऐसे पांच सितारा होटल में बिस्तर लगाने का ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है।’’ 

प्रधानमंत्री मोदी की चाची नर्मदाबेन नहीं रहीं, गुजरात में कोरोना से निधन

उसने कहा था कि ऐसे वक्त में जब दिल्ली सरकार हर किसी को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में सक्षम नहीं है तो वह उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के लिए 100 बिस्तरों वाला केंद्र बनाने के बारे में बात कर रही है। उसने कहा था कि सरकार किसी खास वर्ग के लिए ऐसा केंद्र नहीं बना सकती इसलिए एसडीएम का आदेश गलत है। चाणक्यपुरी के उपमंडलीय मजिस्ट्रेट (एसडीएम) द्वारा 25 अप्रैल को जारी आदेश में कहा गया था कि अशोका होटल में कोविड-19 केंद्र को प्राइमस अस्पताल से संबद्ध किया जाएगा। इसमें कहा गया था कि यह केंद्र दिल्ली उच्च न्यायालय के अनुरोध पर बनाया जा रहा है। 

ऑक्सीजन को लेकर पीएम मोदी युद्ध स्तर पर कर रहे हैं निगरानी : सुप्रीम कोर्ट में केंद्र का हलफनामा

पीठ ने कहा, ‘‘हमने कोविड-19 के कारण दो न्यायिक अधिकारियों को खो दिया।’’ उसने कहा कि ऐसी स्थिति में हम बस यह चाहते हैं कि अगर ये न्यायिक अधिकारी अस्पताल में भर्ती होना चाहते हैं तो कुछ अस्पतालों को उन्हें यह सुविधा मुहैया करानी चाहिए। अदालत ने कहा, ‘‘इस आदेश का गलत तरीके से अनुवाद किया गया। अगर हम अपने लिए कोई सुविधा चाहते भी थे तब भी 100 बिस्तरों वाला केंद्र बनाने का सवाल कहां से आया।’’ 

केजरीवाल ने कोविड-19 टीके की दूसरी खुराक ली
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक ली और सभी पात्र लोगों से टीका लगवाने की अपील की।     मुख्यमंत्री को मधुमेह की बीमारी है और उन्हें चार मार्च को यहां लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में टीके की पहली खुराक लगाई गई। टीका लगवाने के बाद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘मैंने आज टीके की दूसरी खुराक लगवाई। मैं हर पात्र व्यक्ति से अपील करता हूं कि वह टीका लगवाए।’’ 

जनता ऑक्सीजन के लिए भटक रही, योगी सरकार ‘झूठ’ बोल रही : अखिलेश यादव

राष्ट्रीय राजधानी में तीसरे चरण में 18 वर्ष से 44 वर्ष तक के लोगों के टीकाकरण के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। दिल्ली सरकार ने हाल में कोविड-19 के 1.34 करोड़ टीके की खुराक खरीदने की मंजूरी दी। केजरीवाल एक मई से शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण पर आज शाम एक बैठक की अध्यक्षता भी करेंगे। अधिकारियों ने बताया कि बैठक में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.