Thursday, Aug 11, 2022
-->
Kejriwal AAP urges Haryana to release excess water in Yamuna on humanitarian grounds

केजरीवाल ने मानवीय आधार पर हरियाणा से यमुना में अतिरिक्त जल छोड़ने का किया आग्रह

  • Updated on 6/10/2022


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय राजधानी में जलाभाव के समाधान के लिये दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को हरियाणा से मानवीय आधार पर यमुना नदी में अतिरिक्त पानी छोडऩे का आग्रह किया। केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने एक मुलाकात के दौरान उप राज्यपाल वी के सक्सेना के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की। 

RBI के रेपो दर बढ़ाने के बाद बैंकों ने आवास, वाहन एवं व्यक्तिगत ऋणों को किया महंगा 

मुख्यमंत्री ने उप राज्यपाल से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘हमें इन कानूनी मामलों में नहीं पडऩा चाहिये.....कि दिल्ली का हिस्सा इतना है और हरियाणा इतना पानी छोड़ रहा है...दिल्ली जल संकट की समस्या से जूझ रहा है और मैं हरियाणा सरकार से मानवीय आधार पर यमुना नदी में अतिरिक्त पानी छोडऩे का आग्रह करता हूं ।’’     

राजीव बजाज ने इलेक्ट्रिक वाहन स्टार्टअप की बढ़ती संख्या पर किया कटाक्ष 

उधर, राजधानी में जल संकट के मद्देनजर दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष सौरभ भारद्वाज ने शुक्रवार को हरियाणा सरकार से दिल्ली के हिस्से का पानी यमुना नदी में छोडऩे का आग्रह किया। भारद्वाज ने दावा किया कि हरियाणा सरकार ने यमुना नगर में स्थित ताजेवाला बांध से पानी छोडऩा बंद कर दिया है, जहां से दिल्ली को प्रतिदिन 100 मिलियन गैलन पानी की आपूर्ति की जाती है। 

मूसेवाला हत्याकांड: बदमाश लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ करने दिल्ली पहुंची पुणे पुलिस

  •  

उन्होंने कहा कि यमुना दिल्ली में आठ फुट नीचे बह रही है और जल स्तर पहले ही 7.5 फुट कम हो गया है । उन्होंने कहा कि दिल्ली में पिछले दो दिनों में पीने के पानी का संकट और गहरा गया है । बोर्ड के अनुसार वजीराबाद जलाशय में जलस्तर कम होकर 667 फुट पर पहुंच गया है जो आम तौर पर 674.5 फुट होता है । दिल्ली को प्रतिदिन 1200 एमजीडी पानी की जरूरत होती है जबकि दिल्ली जल बोर्ड 1000 एमजीडी जलापूर्ति करता है। 

दुनिया की नजरों में आ गया है मोदी सरकार का ‘हिंदुत्व का एजेंडा’ : माकपा 

 

 

comments

.
.
.
.
.