Wednesday, Sep 27, 2023
-->
kejriwal appeal to donate blood plasma kmbsnt

केजरीवाल की अपील- प्लाजमा दान कर दूसरों की जान बचाएं कोरोना से ठीक हुए मरीज

  • Updated on 4/24/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कोरोना (Coronavirus) से ठीक हुए मरीजों से प्लाजमा (Blood Plasma) डोनेट करने की अपील की है। केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि दिल्ली के लोकनायक अस्पताल (LNJP Hospital) के गंभीर रूप से बीमार मरीजों में प्लाजमा थेरेपी (Plasma Therapy) का परीक्षण किया गया। जिसके शुरुआती नजीते बहुत उत्साहवर्धक आए हैं। 

केजरीवाल ने बताया कि आज से 10 दिन पहले केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार को प्लाजमा थेरेपी के परीक्षण की अनुमति दी थी। ये अनुमति सीमित तौर पर दी गई थी, केवल लोकनायक अस्पताल में जो मरीज गंभीर रूप से बीमार हैं उन पर ये परीक्षण करने की अनुमति दी गई थी। 4 मरीजों पर ये परीक्षण किया गया। इस थेरेपी के उपयोग से चारों मरीजों की हालत में सुधार है। सीएम केजरीवाल ने कहा है कि अभी 2-3 दिन हम और परीक्षण करेंगे। 

लॉकडाउन में शराब बेची तो कैंसिल होगा लाइसेंस, केजरीवाल सरकार ने दिए निर्देश

पूरी दिल्ली के लिए मांगी जाएगी ये अनुमति
इसके बाद पूरी दिल्ली में गंभीर रूप से बीमार मरीजों का प्लाजमा थेरेपी से इलाज करेने की अनुमति केंद्र सरकार से मांगी जाएगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि इसके लिए ये जरूरी है कि लोग प्लाजमा डोनेट करने के लिए आगे आएं। यदि प्लाजमा ही नहीं होगा तो ये थेरेपी कैसे अमल में लाई जाएगी।

अब LNJP अस्पताल का डायटिशियन कोरोना संक्रमित, मेस हुआ बंद

ब्लड प्लाजमा दान करने आगे आएं लोग
उन्होंने कहा कि मैं कोरोना से ठीक होकर घर चले गए मरीजों से अपील करता हूं कि  वो अपना ब्लड प्लाजमा दान करने के लिए आगे आएं। उनके स्वास्थ्य की जिम्मादारी सरकार की है। उन्होंने कहा कि जो भी मरीज कोरोनो को मात देकर घर चले गए हैं उनको सरकार की ओर से एक फोन आएगा। सरकार उनको अस्पताल तक ले जाने से लेकर उनकी हर सुविधा का पूरा ख्याल रखेगी। 

कम दाम में हो सकेगी कोरोना जांच, IIT दिल्ली ने किया आविष्कार

प्लाजमा दान करने से नहीं आती कमजोरी
सीएम केजीरवाल और उनके साथ मौजूद वरिष्ठ डॉक्टर सरीन ने बताया कि प्लाजमा दान करने से किसी भी प्रकार की हानी नहीं होती। इससे किसी भी प्रकार की कमजोरी नहीं आती जो कि रक्त दान करने में आती है। इसमें केवल आपके ब्लड का प्लाजमा लिया जाएगा और बाकी आपका पूरा रक्त आपके शरीर में वापस डाल दिया जाएगा। आपके प्लाजमा में जो एंटीबॉडीज होंगी वो गंभीर रूप से बीमार मरीज के इलाज में काम आएगी। 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

comments

.
.
.
.
.