Wednesday, Apr 14, 2021
-->
kejriwal govt approval to constitution of a delhi board of school education kmbsnt

केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- Delhi Board of School Education को दी मंजूरी

  • Updated on 3/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली सरकार (delhi govt) ने शिक्षा के क्षेत्र में एक बार फिर से बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने आज यानी शनिवार 6 मार्च को राष्ट्रीय राजधानी के अपने स्कूल शिक्षा बोर्ड (Delhi Board of School Education) के गठन को मंजूरी दे दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने कहा कि आज की कैबिनेट बैठक में, हमने दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन के गठन को मंजूरी दे दी है। 

इस निर्णय के बारे में अधिक जानाकारी देते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में लगभग 1,000 सरकारी स्कूल और 1,700 निजी स्कूल हैं। यहां सभी सरकारी स्कूल और अधिकांश निजी स्कूल सीबीएसई से संबद्ध हैं। शैक्षणिक सत्र 2021-22 में, हम इस बोर्ड में 20-25 स्कूल शामिल करेंगे। उनका सीबीएसई संबद्धता समाप्त कर दिया जाएगा और वे दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन से संबद्ध हो जाएंगे। स्कूलों का चयन प्रधानाचार्यों, शिक्षकों और अभिभावकों से चर्चा के बाद किया जाएगा। हमें उम्मीद है कि सभी स्कूल 4-5 वर्षों में स्वेच्छा से इस बोर्ड से जुड़ जाएंगे। 

Corona Vaccination In Delhi: एक दिन में 14,874 बुजुर्गों ने लगवाया टीका

दिल्ली शिक्षा बोर्ड के 3 बड़े लक्ष्य

  • देश की जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार हों विद्यार्थी
  • किसी भी धर्म, जाति और अमीर - गरीब का फर्क भूल अच्छे इंसान बने
  • बच्चों को रोजगार मांगने के लिए नहीं रोजगार देने के लिए तैयार करेंगे

दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था में क्रांतिकारी परिवर्तन
इस दौरान सीएम केजरीवाल ने ये भी बताय कि उनके कार्यकाल में दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था में क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं। जो इस प्रकार हैं-

  • पहला- शिक्षा पर 25% बजट खर्च करना शुरू किया।
  • दूसरा- बच्चों को विदेश में ओलंपियाड में भेजा
  • तीसरा- टीचर्स, प्रिंसिपल को विदेश ट्रेनिंग के लिए भेजा
  • चौथा- मिशन बुनियाद, हैप्पीनेस करीकुल्लम शुरू किया।

दिल्ली विधानसभा बजट सत्र होगा ऐतिहासिक, 75 सप्ताह तक देशभक्ति के रंग में रंगेगी राजधानी

शिक्षा सुधार का आधार बनेगा ये बोर्ड- मनीष सिसोदिया
केजरीवाल सरकार के इस फैसले के बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सह शिक्षा मंत्री ने मनीषि सिसोदिया ने इसे शिक्षा सुधार का आधार बताया है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लिखा है कि दिल्ली का नया स्कूल बोर्ड, शिक्षा में सुधार के एक बहुत बड़े सपने को पूरा करने का आधार बनेगा. इसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा कि हर बच्चा अच्छा नागरिक बने, कट्टर देशभक्त बनकर देश की जिम्मेदारी ले और अच्छा इंसान बने. यह बोर्ड शिक्षा को 'रटकर पास होने की परीक्षा' से मुक्त करेगा।

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.