Monday, Jan 17, 2022
-->
kerala govt knocked on sc due to corona due to sabiramala devotee number case pragnt

सबरीमाला मंदिर: HC के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, श्रद्धालुओं की एंट्री का मामला

  • Updated on 12/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केरल सरकार (Kerala Government) ने केरल होई कोर्ट (Kerala High Court) के उस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है, जिसमें उसने राज्य सरकार को सबरीमाला मंदिर (Sabarimala Temple) में प्रति दिन दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाकर पांच हजार करने का निर्देश दिया था।

कृषि कानूनों के विरोध में राहुल गांधी ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, कही ये बड़ी बात

केरल सरकार ने कहा ये
केरल सरकार ने कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के मद्देनजर इससे पुलिस कर्मियों और स्वास्थ्य अधिकारियों पर 'काफी दबाव' बढ़ेगा। केरल होई कोर्ट के 18 दिसंबर के फैसले के खिलाफ दायर की गई याचिका में राज्य सरकार ने कहा कि राज्य ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया था, जिसने आम दिनों में दो हजार और सप्ताहांत में तीन हजार लोगों को दर्शन करने की अनुमति देने का फैसला किया।

खुशखबरी! PM किसान सम्मान निधि के तहत कल भेजी जाएगी 2-2 हजार रुपये की अगली किस्त

उच्च स्तरीय समिति का किया गया गठन
उसने कहा कि इस साल 20 दिसंबर से अगले साल 14 जनवरी के बीच सबरीमाला मंदिर उत्सव के दौरान कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए राज्य ने उच्च स्तरीय समिति का गठन किया और हर दिन दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तय करने के लिए हर पहलू पर विचार किया। उसने कहा कि 14 दिसम्बर को हुई बैठक में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के संशोधित स्वास्थ्य परामर्श पर दायर रिपोर्ट पर गौर किया गया और श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाकर आम दिनों में दो हजार और सप्ताहांत में तीन हजार की गई।

महाराष्ट्र में कोरोना वैक्सीन अभियान के लिए 16,000 मेडिकल स्टाफ को किया गया ट्रैन, बनाया ये प्लान

वकील का कहना है ये
वकील जी. प्रकाश द्वारा दायर की गई याचिका में राज्य सरकार ने कहा, 'हाई कोर्ट ने कुछ प्रतिवादियों द्वारा दायर  याचिकाओं का निस्तारण किया, जिसमें सरकार को प्रतिदिन दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाकर पांच हजार करने का निर्देश दिया गया। उच्च न्यायालय ने किसी भी रिपोर्ट या दस्तावेजों पर उचित तरीके से गौर किए बिना यह फैसला किया। सबरीमला में कोविड-19 से प्रभावित पुलिस कर्मियों, स्वास्थ्य अधिकारियों और श्रद्धालुओं की संख्या पहले से ही अधिक है।'

Farm Laws: 29वें दिन भी किसानों का आंदोलन जारी,संघों की सरकार से अपील- 'खुले दिल' से करें वार्ता

पुलिस पर बढ़ेगा दवाब
उसने कहा कि मंदिर में प्रवेश पुलिस द्वारा प्रबंधित एक आभासी कतार (वर्चुअल क्यू) द्वारा नियंत्रित किया जाता है और मंदिर में प्रवेश से पहले श्रद्धालुओं की कोविड-19 जांच भी की जाती है। उसने कहा, 'श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने से पुलिस कर्मियों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर दबाव बढ़ेगा और इससे श्रद्धालुओं को नियंत्रित करने में भी परेशानी आएगी।'

शताब्दी समारोह में PM मोदी बोले- विश्व भारती के लिए गुरुदेव का विजन आत्मनिर्भर भारत का सार

सामने आया कोरोना का नया स्टेन
याचिका में कहा गया, 'मीडिया में इस तरह की खबरें भी आ रही हैं कि इंग्लैंड में कोविड-19 के एक नए प्रकार (स्ट्रेन) का पता चला है और भारत सरकार ने इंग्लैंड से आने-जाने वाली विमान सेवाएं भी निलंबित कर दी है। यही स्थिति केरल सरकार की भी है, जो सबरीमाला मंदिर उत्सव के दौरान कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए इस आदेश में तत्काल इस अदालत का हस्तक्षेप चाहती है।' अंतरिम राहत के रूप में, याचिका में उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.