Tuesday, Sep 27, 2022
-->
Kerala Proposal passed against handing Trivandrum airport lease to Adani company rkdsnt

त्रिवेंद्रम एयरपोर्ट का पट्टा अडानी कंपनी को सौंपने के खिलाफ केरल में प्रस्ताव पारित

  • Updated on 8/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केरल विधानसभा ने सोमवार को ‘‘सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव’’ पारित किया और यहां स्थित अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे को ‘अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड’ को पट्टे पर देने के केन्द्रीय मंत्रिमंडल के फैसले को वापस लेने की मांग की। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने प्रस्ताव पेश करते हुए कहा कि केन्द्र को अपने फैसले पर फिर फिर से गौर करना चाहिए। हवाई अड्डे का संचालन एवं प्रबंधन स्पेशल पर्पस व्हीकल (एसपीवी) को सौंप दिया जाए जिसमें राज्य सरकार की हिस्सेदारी है। 

महाराष्ट्र के रायगढ़ में 5 मंजिला इमारत गिरी, 50 से ज्यादा लोगों के दबे होने की आशंका

उन्होंने कहा कि अडानी इंटरप्राइजेज द्वारा उद्धृत राशि देने को लेकर राज्य सरकार के राजी होने के बावजूद हवाईअड्डे का निजीकरण का केन्द्र का फैसला उचित नहीं ठहराया जा सकता। विधानसभा में विपक्ष के नेता, रमेश चेन्निथला ने हवाई अड्डे के निजीकरण के खिलाफ प्रस्ताव का समर्थन किया लेकिन साथ ही सरकार पर मामले पर ‘‘ दोहारा मापदंड’’ अपनाने का अरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार सार्वजनिक रूप से अडानी समूह पर हमला बोलती है लेकिन उससे करीबी एक कम्पनी की सलाह लेकर उनकी मदद की। उन्होंने साथ ही आपराधिक साजिश का आरोप भी लगाया। 

अब भाजपा शासित हरियाणा के CM खट्टर भी कोरोना पॉजिटिव

चेन्निथला ने यह भी जानना चाहा कि सीआईएएल (कोचिन इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड), हवाई अड्डा कम्पनी को सलाहकार के रूप में क्यों नियुक्त नहीं किया गया। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘अडानी समूह को मदद करने के लिए साजिश रची गई है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘राज्य के हित को ध्यान में रखते हुए विपक्ष प्रस्ताव का समर्थन कर रहा है।’’ प्रस्ताव पर थोड़ी देर चर्चा के बाद विधानसभा अध्यक्ष पी. श्रीरामकृष्णन ने घोषणा ‘‘प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया है।’’ 

गुलाम नबी के तेवर पड़े ढीले, कहा- राहुल ने ‘सांठगांठ’ वाली कोई बात नहीं की

हालांकि भाजपा ने विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया और सोना तस्करी मामले में मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की। भाजपा ने साथ ही आरोप लगाया कि यह प्रस्ताव ‘‘सर्वसम्मति’’ से पारित नहीं हुआ है क्योंकि विधानसभा में उनके एकमात्र प्रतिनिध ओ. राजगोपाल को ‘‘बोलने की इजाजत नहीं दी गई।’’ प्रदेश भाजपा प्रमुख के. सुरेंद्रन ने मीडिया से कहा, ‘‘हालांकि हम हवाई अड्डे के मामले में राज्य के लोगों के साथ हैं।’’

निजीकरण के खिलाफ गुवाहाटी एयरपोर्ट पर कांग्रेस का प्रदर्शन
विपक्षी कांग्रेस ने गुवाहाटी हवाई अड्डे को 50 साल के लिए अडानी इंटरप्राइजेज को पट्टे पर देकर इसका निजीकरण करने के केंद्र के फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। हवाई अड्डा प्राधिकरण कर्मचारी संघ (एएईयू) भी गुवाहाटी, जयपुर और तिरुवनंतपुरम हवाई अड्डों का निजीकरण करने के केंद्र के फैसले के खिलाफ 19 अगस्त से ही हर दिन प्रदर्शन कर रहा है।

बसपा के 6 विधायकों का कांग्रेस में विलय : सुप्रीम कोर्ट से BJP को लगा झटका 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा ने कहा, ‘‘कांग्रेस 2018 से ही विरोध कर रही है जब भाजपा सरकार ने हवाई अड्डों के निजीकरण का फैसला किया था। कुछ लोगों ने अदालत में जनहित याचिकाएं भी दायर की हैं, लेकिन फैसले का इंतजार नहीं किया गया और सरकार ने मंत्रिमंडल की बैठक में इसका निजीकरण करने का फैसला कर लिया।’’ उन्होंने कहा कि हवाई अड्डा असम के पहले मुख्यमंत्री गोपीनाथ बोरदोलोई के नाम पर है और यह राज्य के लोगों के लिए यह भावनात्मक मुद्दा है। राज्यसभा सदस्य बोरा ने कहा, ‘‘हम नहीं चाहते कि यह अडानी समूह जैसे उद्यमियों के हाथ में जाए। फैसला पलटे जाने तक हम अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे ।’’ 

कोरोना संकट में पित्रोदा ने शुरू किया सूचना पोर्टल, किसानों की करेगा मदद

 

 

 

 

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.