Tuesday, Dec 07, 2021
-->
keshav prasad maurya said central leadership and mla will decide the chief minister prshnt

UP: चुनाव पर मौर्य का बड़ा बयान, कहा- केंद्रीय नेतृत्व और विधायक करेंगे CM का फैसला

  • Updated on 9/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है। इसी बीच राज्य के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य  ने अगले साल की शुरुआत में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में 2017 की तरह बीजेपी (BJP) के पक्ष में चुनाव परिणाम आने का दावा कर दिया है। मौर्य  ने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में 2024 के लोकसभा चुनाव की लड़ाई होने वाली है क्योंकि दिल्ली का रास्ता यूपी से होकर जाता है।

महाराष्ट्र: अनिल देशमुख के वकील को CBI ने किया गिरफ्तार, प्रारंभिक जांच को बाधित करने का है आरोप

2017 की तुलना में ज्यादा समर्थ है बीजेपी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के चुनाव लड़े जाने की बात कहते हुए उप मुख्‍यमंत्री ने यह भी स्पष्ट किया कि विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री का फैसला केंद्रीय नेतृत्व और निर्वाचित विधायक करेंगे। मौर्य ने कहा, हम उप-मुख्‍यमंत्री हैं, योगी जी मुख्‍यमंत्री, स्‍वतंत्रदेव सिंह प्रदेश अध्यक्ष और डॉक्टर दिनेश शर्मा उप-मुख्‍यमंत्री के रूप में हैं। इस लिहाज से बीजेपी की टीम 2017 की तुलना में ज्यादा समर्थ है।

सावरकर-ए कंटेस्टेड लिगेसी का निर्मला सीतारमण ने किया लोकार्पण

महामारी के चलते छोटी एवं अनौपचारिक बैठक
बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की राष्ट्रीय समन्वय बैठक तीन और चार सितंबर को यहां होगी जिसमें विश्व हिंदू परिषद एवं कुछ अन्य आनुषांगिक संगठनों के शीर्ष प्रतिनिधि शिरकत करेंगे। आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख (मीडिया/प्रचार शाखा प्रमुख) सुनील अंबेडकर ने बताया कि संघ और उसके आनुषांगिक संगठनों की यह समन्वय बैठक वर्तमान कोरोना वायरस महामारी के चलते छोटी एवं अनौपचारिक बैठक होगी। बता दें कि 2022 में यूपी समेत कई राज्यों में विधानसभा चुनाव भी होने वाले हैं। ऐसे में यह राष्ट्रीय समन्वय बैठक भी अहम मानी जा रही है। 

Coronavirus: देश में बढ़ा कोरोना संकट, 24 घंटों में 47,092 नए मामले

2022 की शुरुआत में पूर्ण समन्वय बैठक
उन्होंने कहा, हर वर्ष सितंबर में एक विशाल बैठक होती है। लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते पिछले साल छोटी बैठक हुई और इस साल भी नागपुर में छोटी बैठक ही होगी। वैसे उन्होंने इस दो दिवसीय बैठक का एजेंडा नहीं बताया।अंबेडकर ने बताया कि आरएसएस के अखिल भारतीय पदाधिकारी तथा विहिप, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप), भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) एवं विद्या भारती समेत विभिन्न आनुषांगिक संगठनों के राष्ट्रीय स्तर के संगठन मंत्री इस बैठक में भाग लेंगे। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार आने पर 2022 की शुरुआत में पूर्ण समन्वय बैठक होगी।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.