Tuesday, Oct 04, 2022
-->
khalistani and pakistani plans exposed tractor rally violence farmers tractor parade sohsnt

लाल किले पर झंडा फहराने के खालिस्तानी- पाकिस्तानी मंसूबों का पर्दाफाश, हुडदंग को बताया था फतह

  • Updated on 1/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। किसान आंदोलन (Farmers Movement) की आड़ में देश का राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा का जो तांड़व हुआ उसके पीछे सीमापार से जुड़े तार अब उजागर हो चुके हैं। लालकिले पर 'निशान साहिब' का झंडा फहराने के बाद से खालिस्तानी एजेंड़े का पर्दाफाश हो गया है। खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार किसान आंदोलन की आड़ में खालिस्तानी गुट एसएफजे ने गणतंत्र दिवस से लगभग 15 दिन पहले ही अपने संदेशों के जरिए ट्रैक्टर परेड के दौरान इंडिया गेट पर खालिस्तानी झंड़ा लगाने वाले को 18.25 लाख रुपए का इनाम देने का ऐलान किया था। 

ITO किसान मौतः ऑस्ट्रेलिया में शादी के बाद दावत देने भारत आया था नवरीत 

पाकिस्तान के अलावा इन देशों में भी खालिस्तान के तार
दिल्ली में किसान आंदोलन की आड़ में हिंसा फैलाने वालों के तार न सिर्फ पाकिस्तान से जुड़े हैं बल्कि अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया समेत कई अन्य देशों में जुड़े हैं। इन देशों में बैठे खालिस्तानी गुट के कुछ मुट्ठीभर समर्थकों ने लालकिले की घटना के बाद खुशी व्यक्त करते हुए अपनी आगे की प्लानिंग का भी ऐलान कर दिया है,जिसके तहत अब इन लोगों ने 1 फरवरी को संसद के घेराव के लिए भड़काऊ बयान जारी किया है। 

26 जनवरी से 1 सप्ताह पहले दीप सिद्धू ने फेसबुक लाइव पर कहा था- 'पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त'

ऐसे पता चली खालिस्तानियों की मंशा
दरअसल,  खालिस्तानियों के मंशा तब और अच्छे से जाहिर हो गई, जब किसानों की ट्रैक्टर परेड को हाइलाइट करने के लिए न्यूयॉर्क, वाशिंगटन, लंदन समेत कई शहरों में प्रदर्शन के दौरान इनके समर्थन में खालिस्तानी झंडे देखे गए। मालूम हो कि ये पहला मौका नहीं है जब खालिस्तानी एसएफजे का पाकिस्तान से लिंक सामने आया है, इससे पहले भी कई बार खालिस्तानी गुट एसएफजे का पाकिस्तान और आईएसआई से कनेक्शन होने की खबरे सामने आती रही हैं।

किसान हिंसा पर खुलासा- अकाली दल व सुखबीर बादल के इशारे पर हुआ लाल किले पर तांडव

पाकिस्तान ने हुडदंग को बताया फतह
बता दें कि पाकिस्तान की भारत के प्रति सोच किस हद तक गिरी हुई है इसका तब और अच्छे से पता चला जब पाकिस्तानी सरकारी समाचार ने किसान आंदोलन के दौरान लाल किले पर हुई घटना को जमकर चलाया। इतना ही नहीं पाकिस्तान के कई अन्य समाचारों ने तो लाल किले पर हुई घटना को फतह करार दिया। 

Tractor Rally Violence: किसान नेताओं की बढ़ सकतीं हैं मुश्किलें, FIR के बाद एक्शन में ED

पाकिस्तान पहले ही हो चुका था बेनकाब
दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड के बीच गड़बड़ी करने और राजधानी में दंगे व आतंकी साजिश को पहले ही बेनकाब कर दिया था। पुलिस ने पाकिस्तान से संचालित 308 ट्विटर हैंडल ट्रेस किए थे, जो पाकिस्तान, तुर्की और अफगानिस्तान के आसपास से संचालित थे।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.