Tuesday, Jan 25, 2022
-->
kisan morcha clear there will be no formal talks with modi bjp govt farmers rkdsnt

किसान मोर्चा ने किया साफ- किसानों की रिहाई तक नहीं होगी औपचारिक बातचीत

  • Updated on 2/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने मंगलवार को कहा कि पुलिस एवं प्रशासन द्वारा ‘उत्पीडऩ’ बंद होने और हिरासत में लिए गए किसानों की रिहाई तक सरकार के साथ किसी तरह की ‘औपचारिक’ बातचीत नहीं होगी। कई किसान संगठनों के इस समूह ने एक बयान जारी कर यह आरोप भी लगाया कि सड़कों पर कीलें ठोकने, कंटीले तार लगाने, आंतरिक सड़क मार्गों को बंद करने समेत अवरोधक बढ़ाया जाना, इंटरनेट सेवाओं को बंद करना और ‘भाजपा एवं आरएसएस के कार्यकर्ताओं के माध्यम से प्रदर्शन करवाना’ सरकार, पुलिस एवं प्रशासन की ओर से नियोजित ‘हमलों’ का हिस्सा हैं। 

सिंघू बार्डर पर सीमेंट के अवरोधों में लोहे की छड़ें लगाई गईं, अस्थायी दीवार बनेगी

उसने दावा किया कि किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर ‘बार-बार इंटरनेट सेवाएं बंद करना’ और किसान आंदोलन से जुड़े कई ट््िवटर अकाउंट को ब्लॉक करना ‘लोकतंत्र पर सीधा हमला’ है। सूत्रों का कहना था कि ट्विटर ने सोमवार को अपने सोशल मीडिया मंच पर करीब 250 ऐसे एकाउंट पर रोक लगा दी जिनके जरिए किसान आंदोलन से संबंधित ‘फर्जी और भड़काउ’ पोस्ट किए गए थे। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि सरकार किसानों के प्रदर्शन को विभिन्न राज्यों से समर्थन बढऩे से बहुत डरी हुई है। 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बजट 2021 को लेकर मोदी सरकार को दी नसीहत

दिल्ली की सीमाओं के निकट कई स्थानों पर किसान दो महीनों से अधिक समय से कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें ज्यादातर किसान पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से हैं। किसान मोर्चा ने कहा, ‘‘एसकेएम ने सोमवार को अपनी बैठक में फैसला किया कि किसान आंदोलन के खिलाफ पुलिस एवं प्रशासन की ओर से उत्पीडऩ तत्काल बंद किया जाना चाहिए।’’ उसके मुताबिक, सरकार की तरफ से औपचारिक बातचीत को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं है। 

Budget 2021 : राहुल बोले- मोदी सरकार अपने उद्योगपति दोस्तों को सौंपना चाहती है देश की संपत्ति

बयान में कहा गया है, ‘‘सरकार की तरफ से औपचारिक बातचीत का कोई प्रस्ताव नहीं आया है। ऐसे में हम स्पष्ट करते हैं कि गैरकानूनी ढंग से पुलिस हिरासत में लिए गए किसानों की बिना शर्त रिहाई के बाद ही कोई बातचीत होगी।’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत शनिवार को सर्वदलीय बैठक में कहा था कि कृषि कानूनों का क्रियान्वयन 18 महीनों के लिए स्थगित करने का सरकार का प्रस्ताव अब भी बरकरार है। किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री के बयान पर कहा था कि तीनों कानूनों को निरस्त किया जाना चाहिए। 

मोदी सरकार के बजट 2021 को लेकर घोर निराश नजर आए पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम

सरकार ने 22 जनवरी को सरकार और किसान संगठनों के बीच हुई आखिरी दौर की बातचीत में कानूनों का क्रियान्वयन 18 महीनों के लिए स्थगित करने का प्रस्ताव दिया था। किसान संगठन कानूनों को निरस्त करने की मांग पर अड़े हैं। गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया था। किसान मोर्चा ने अपने बयान में कहा कि दिल्ली पुलिस ने 122 आंदोलकारियों की सूची जारी की है जिन्हें हिरासत में लिया गया है। उसने कहा कि हिरासत में लिए गए सभी किसानों की रिहाई होनी चाहिए। 

बिजनौर महापंचायत: टिकैत बोले- समाधान तक कायम रहेगी किसानों की मोर्चाबंदी

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.