Tuesday, Jan 25, 2022
-->
kisan morcha will meet again on proposal of modi bjp govt msp law farmers movement rkdsnt

मोदी सरकार के प्रस्ताव को लेकर फिर बैठक करेगा संयुक्त किसान मोर्चा

  • Updated on 12/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने मंगलवार को कहा कि उसने आंदोलन को समाप्त करने का अनुरोध करने वाले सरकार के प्रस्ताव का जवाब दिया है, जिसमें कुछ बिंदुओं पर स्पष्टीकरण मांगा गया है। संगठन ने कहा कि उसने किसानों पर दर्ज 'फर्जी’’ मामले वापस लेने के लिये आंदोलन समाप्त करने की सरकार की पूर्व शर्त पर भी स्पष्टीकरण मांगा है।  

रिलायंस कैपिटल के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करेगा NCLD, नागेश्वर राव कंपनी के प्रशासक

 

किसान नेताओं ने कहा कि वे इस मुद्दे पर बुधवार अपराह्न दो बजे एक और बैठक करेंगे। बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि सरकार ने एक प्रस्ताव भेजा, उस पर चर्चा हुई और संयुक्त किसान मोर्चा के सभी सदस्यों के सामने पेश किया गया। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रस्ताव में कहा गया है कि वह न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी की मांग पर एक समिति का गठन करेगी और इस समिति में एसकेएम के बाहर के किसान संगठन, सरकारी अधिकारी और राज्यों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। 

मोदी सरकार ने NHPC के निदेशक-कार्मिक को कार्यकाल पूरा होने से पहले किया सेवामुक्त

राजेवाल ने कहा, 'हमें इस पर आपत्ति थी।' हमें एमएसपी पर ऐसी समितियां नहीं चाहिए जो शुरू से ही हमारी मांग के विरोध में हैं। हमने सरकार से इस पर स्पष्टीकरण देने को कहा है।’’ उन्होंने कहा, 'हम सरकार की उस शर्त के भी खिलाफ हैं, जिसमें कहा गया कि किसानों पर दर्ज फर्जी मामलों को वापस लेने के लिए किसान आंदोलन समाप्त करना होगा।’’  

बाबा साहेब आंबेडकर के सपने को पूरा करने की केजरीवाल ने खाई कसम

एक अन्य किसान नेता ने कहा कि उन्हें मंगलवार दोपहर को प्रस्ताव मिला। उन्होंने कहा, 'हमने बैठक में इस पर चर्चा की। हमें प्रस्ताव में कुछ बिंदुओं पर आपत्ति थी। हमारे सदस्यों ने कुछ सुझाव दिए हैं और उन्हें सरकार को भेज दिया गया है।’’  

SEBI ने विलय-अधिग्रहण को आसान बनाने को नियमों में किया संशोधन

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.