Thursday, Aug 11, 2022
-->
kisan-rail-one-year-railways-not-get-rs-40-crore-as-subsidy-from-food-processing-ministry-rkdsnt

किसान रेल के एक साल: रेलवे को खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय से सब्सिडी के नहीं मिले 40 करोड़ रुपये 

  • Updated on 10/31/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ‘ किसान रेल’ जहां देशभर के किसानों के लिए वरदान बनकर आई है, वहीं रेलवे को एक साल तक 50 प्रतिशत छूट के साथ इन ट्रेनों का परिचालन करने के बदले में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय से अभी तक तकरीबन 40 करोड़ रुपये नहीं मिले हैं। भारतीय रेल ने 14 अक्टूबर 2020 से 10 अक्टूबर 2021 तक किसान रेल से किसानों की वस्तुओं की ढुलाई के लिए करीब 95 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी।  

मप्र के गृह मंत्री ने सब्यसाची के मंगलसूत्र के विज्ञापन को हटाने के लिए दिया ‘अल्टीमेटम’

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की ‘ऑपरेशन ग्रीन्स-टॉप टू टोटल’ योजना के तहत किसान रेल से फलों व सब्जियों की ढुलाई में 50 फीसदी सब्सिडी दी जाती है।इस सब्सिडी का भार खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय को उठाना है, जिसने रेल मंत्रालय को अब तक रकम की अदायगी नहीं की है।

सावरकर पर टिप्पणी : ओवैसी के खिलाफ अवमानना कार्यवाही की मंजूरी देने से अटॉर्नी जनरल का इनकार

 आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर 2020 में सेवाएं शुरू होने के बाद से रेलवे ने 129 मार्गों पर 1,455 किसान रेल गाडिय़ां परिचालित की हैं, जिसके जरिए 182.46 करोड़ रुपये मूल्य की 4.78 लाख टन माल की ढुलाई की गई और 94.92 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गई।     

राहुल गांधी बोले- लोकतंत्र की रक्षा करना ही सरदार पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि    

अधिकारियों ने बताया कि हालांकि रेलवे को अब तक सिर्फ करीब 55 करोड़ रुपये ही खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय से मिल पाये हैं। उन्होंने बताया कि रेलवे बोर्ड अध्यक्ष और सदस्य, ऑपरेशन एंड बिजनेस डेवलपमेंट, दोनों ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय को पत्र लिख कर किसान रेल योजना पर खर्च बढ़ा कर 150 करोड़ रुपये करने की जरूरत को रेखांकित किया है ताकि सेवाओं की बढ़ती मांग को पूरा किया जा सके।

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में चौथे दिन बढ़ोतरी, भाजपा शासित मप्र में पेट्रोल 120 रुपये के पार

      एक अधिकारी ने कहा, ‘‘हम सब्सिडी के लिए भुगतान करने की खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की क्षमता के बारे में उससे जवाब मिलने तक ये सेवाएं जारी रखेंगे। यदि वह ऐसा करने में असमर्थता जताता है तो हम इस विषय में कोई फैसला करेंगे।’’

comments

.
.
.
.
.