Wednesday, Aug 04, 2021
-->
know-due-to-strong-strategy-of-india-chinese-army-moved-back-from-galwan-prsgnt

LAC पर क्यों पीछे हटी चीनी सेना? जानिए चीन के शांति स्थापित करने की मंशा के पीछे का सच!

  • Updated on 7/7/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा पर बढ़े तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों की तरफ से बातचीत हुई, जिसके बाद चीन ने अपनी सेना को वापस बुला लिया है। करीब एक से दो किमी तक चीनी सेना पीछे हट गई है।

इस मामले में अब चीनी विदेश मंत्रालय की तरफ से भी बयान जारी कर इस फैसले की वजह बताई है। मंत्रालय का कहना है कि दोनों देशों में शांति स्थापित करने के लिए अग्रिम मोर्चे पर कुछ कदम उठाए गये हैं, जिसके तहत सैनिकों को वापस हटा लेने की प्रकिया शुरू की गई है।

चीनी मीडिया ने कहा
इस बारे में चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स की तरफ से कहा गया है कि सीमा पर तनाव को कम करने की बात हुई है। इसके लिए भारत और चीनी सेना ने फ्रंट सीमा से बैच के आधार पर सैनिक कम करने का फैसला लिया है। ये फैसला 30 जून को दोनों देशों के बीच हुई बैठक में लिया गया था।

LAC पर दिखी वायुसेना की ताकत, चिनूक, मिग-29, अपाचे के साथ हुआ नाइट ऑपरेशन, देखें वीडियो

क्या वाकई शांति चाहता है चीन?
चीन ने सीमा को वापस लेने का फैसला लिया और अब इसे चीनी मीडिया की शांति कायम करने के लिए लिया गया फैसला बताया जा रहा है। लेकिन क्या वाकई में चीन शांति चाहता है या भारत की सामरिक, कुटनीतिक और आर्थिक घेराबंदी से वो पस्त हो चुका है?  आखिर क्या कारण है कि चीन पीछे हटा है? आईये कुछ बातों पर नजर डालने हैं।

China को सबक सिखाने के लिए PM मोदी का लद्दाख जाना एक ट्रेलर, पूरी पिक्चर का सोच तिलमिलाया ड्रैगन

चीन के लिए सैन्य संघर्ष आसान नहीं
चीन ने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की और उसके जवाब में भारत ने भी सीमा पर अपना दम दिखाया। भारत ने चीन के अनुपात में ही सैनिकों को अग्रिम मोर्चों पर तमाम-अस्त्र शस्त्रों के साथ उतार दिया। सिर्फ सेना ही नहीं बल्कि टैंकों, मिसाइलों से लेकर हाई स्पीड बोट भी इसमें शामिल रही हैं।  इतना ही नहीं, भारत ने सेना के साथ वायुसेना को भी हाईअलर्ट मोड पर रखा गया है, शनिवार और बीती सोमवार रात को सीमा पर हुए भारत की तरफ से निरिक्षण ऑपरेशन से चीन को बड़ा संदेश मिला।

इतना है नहीं भारतीय नौसेना ने भी हिन्द महासागर में चीनी नौसेना को रोकने के लिए तैयारी कर रखी है। वहीँ इस बीच पीएम का लेह का दौरा चीन को कड़ा संदेश दे गया। भले ही चीन सामने से लड़ने के प्रयास करता है लेकिन वो ये भी जानता है कि भारत इस लड़ाई में कमजोर नहीं पड़ेगा और उसका साथ देने के लिए भी दुनिया के कई देश साथ खड़े हैं। इसलिए चीन के लिए सैन्य संघर्ष करना आसान नहीं है।

PM मोदी का अचानक LAC का दौरा चीन और दुनिया को दे रहा कड़ा संदेश

पीछे हटना महत्वपूर्ण
ये इसलिए भी जरूरी था क्योंकि यही वो जगह है जिसकी वजह से गलवान घाटी में संघर्ष हुआ था। यहीं भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे और इसी पॉइंट की वजह से विवाद शुरू हुआ था, इसलिए चीन का यहां से वापस लौटना बेहद महत्वपूर्ण है।

चीन के खिलाफ हुए सारे देश
भारत और चीन के बीच बढ़े विवाद के बाद अमेरिका ने खुल कर चीन का विरोध किया। अमेरिका कह चुका है कि चीन अपने पड़ोसियों को परेशान करता है। फिर इसमें अमेरिका के अलावा कई दूसरे देशों ने भी भारत का साथ दिया जिसमें फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं। यहां तक कि चीन के करीबी वियतनाम, इंडोनेशिया, फिलीपींस जैसे देश भी चीनी हरकतों से परेशान हैं।

वहीँ रूस के राष्ट्रपति पुतिन के साथ भी पीएम मोदी की कुछ दिनों पहले हुई बातचीत में भारत ने रूस से 21 मिग-29 विमान खरीदने का एलान भी किया है। यहां समझा जा सकता है कि भारत के पास कई देशों का सपोर्ट है जबकि चीन अपने ही करीबियों के साथ से महरूम हो गया है। चीन के पास इस वक़्त सिर्फ पाकिस्तान का साथ है।

चीन एप्स का डेटा यहां करता था इस्तेमाल, डिजिटल स्ट्राइक ने ऐसे फेरा योजनाओं पर पानी

चीन को हुआ आर्थिक नुकसान
चीन को अपनी हरकत की वजह से भारत से बड़ा आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा है। 59 चीनी एप्स पर भारत ने बैन लगाया। इसके बाद कई बड़े हाईवे प्रोजेक्ट चीन से वापस ले लिए गए। निवेश रोकना, आयात कम करना और कस्टम ड्यूटी बढ़ाना जैसे कदम उठाना चीन को आर्थिक झटके दे रहा था।

 

यहां पढ़ें भारत-चीन विवाद से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.