Wednesday, Jul 24, 2019

आज है सावन का आखिरी सोमवार, जानें महत्व और पूजन विधि

  • Updated on 8/20/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भगवान शिव को अर्पित सावन के इस महीने में देश भर में उत्सव जैसा माहौल होता है। ज्योतिष में सावन के हर सोमवार का खास महत्व बताया गया है और आज सावन का आखिरी सोमवार है। पुराणों में इसका विशेष महत्व बताया गया है। आइए आपको बताते हैं कि सावन के इस आखिरी सोमवार का क्या है महत्व और कैसे करें पूजन।

चौथे सोमवार का महत्व

सावन मास का चौथा और आखिरी सोमवार श्रद्धालुओं के आर्थिक कष्टों का निवारण करने वाला है। सावन के चौथे सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से आपको शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी, कार्यक्षेत्र में आने वाली बाधाओं का निवारण होगा और साथ ही धन और संतान की इच्छा रखने वाले जातकों की भी आज इच्छा पूरी हो सकती है। 

पूजा विधि

सावन के आखिरी सोमवार के दिन शिवलिंग पर जलाभिषेक करने का खास महत्व है। इस दिन ओम गोरिशंकराय नम: मंत्र से जाप करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए। इससे विशेष फल प्राप्त होगा। इसके लिए सुबह स्नान कर साफ वस्त्र धारण करें। साफ लोटकी में जल भरें और शिवलिंग पर अर्पित करें साथ ही ओम नम: शिवाय  मंत्र का जाप करें। तत्तपश्चात चंदन, फूल, बेलपत्र और अक्षत चढ़ाएं। 

इच्छा पूर्ति के लिए करें ये उपाय

वाहन सुख के लिए

कई दिनों से वाहन खरीदने के बारे में सोच रहे हैं लेकिन धन की कमी के चलते नही खरीद पा रहे हैं तो, सावन के आखिरी सोमवार को भगवान शिव का दही से अभिषेक करने से आपकी मनोकामना जल्द पूरी होगी।

धन प्राप्ति के लिए

घर में लक्ष्मी का वास रहे और आपको कभी पैसों की तंगी न हो इसके लिए आपको भगवान शिव का अभिषेक गन्ने के रस से करना अधिक फलकारी होगा।

संतान सुख के लिए

यदि आपको अभी संतान सुख प्राप्त नहीं हो सका है तो आपको गाय के कच्चे दूध से भगवान शिव का अभिषेक करने से अवश्य ही फल प्राप्त होगा।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.