Wednesday, Mar 20, 2019

जानें बिहार में महागठबंधन का पूरा Maths, इस तरह बन सकता है सीट बंटवारे का फार्मूला

  • Updated on 3/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गठजोड़ की राजनीति शुरू हो गई। महागठबंधन 2019 लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे के फॉर्म्युले का ऐलान इसी हफ्ते कर सकता है। महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल (आजेडी), कांग्रेस, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी), हिंदुस्तान अवाम मोर्चा (एचएएम), विकासशील इनसान पार्टी (वीआईपी), लोकतांत्रिक जनता दल (एलजेडी) और वाम दल शामिल हैं। 

सूत्रों की मानें तो बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की पार्टी के बंटवारे में 20-22 सीटें मिल सकती हैं। कांग्रेस 11 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है जबकि आरएलएसपी को तीन, एचएएम को दो और वीआईपी को दो सीटें मिल सकती हैं। साथ ही सीपीआई और सीपीआईएमएल जैसे वाम दलों के हिस्से में कुल दो सीटें आ सकती हैं। 

 SP-BSP गठबंधन और कांग्रेस ने बढ़ाई मुश्किलें, इन सीटों पर नहीं लहराएगा BJP का परचम!

बता दें कि बिहार में 40 लोकसभा सीटें हैं जिसमें से पिछली बार बीजेपी ने 22 सीटें जीती थी। एलजेपी के हाथों में 6, आरजेडी को मात्र 4 सीटें मिली थी। जेडीयू को 2 और कांग्रेस को भी महज 2 सीटें ही मिली थी। इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। खबरों की मानें तो आरजेडी, लोकतांत्रिक जनता दल के मुखिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव को अपने चुनाव चिन्ह पर लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए मनाने में जुटी है। 

ये 5 खास बातें PM मोदी को देश के अन्य नेताओं से रखती है आगे, पढ़ें विस्तार से

समाजवादी पार्टी को अपने कोटे से आरजेडी दे सकती है सीट
महागठबंधन से जुड़े सूत्रों का भी कहना है कि अगर आरजेडी चाहे तो वह समाजवादी पार्टी को अपने कोटे से एक सीट देकर उसे महागठबंधन के एक सूत्रों ने कहा कि आरजेडी चाहे तो वह समाजवादी पार्टी को अपने कोटे से एक सीट देकर उसे महागठबंधन में शामिल कर सकती है। 

सूत्रों का कहना है कि आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव निषाद वोटरों के बीच मुकेश साहनी के मजबूत आधार को देखते हुए उनकी पार्टी वीआईपी को साथ लेकर चलना चाहते हैं। वीआईपी की नजर दरभंगा सीट पर है।  सूत्र ने बताया, 'वीआईपी मुजफ्फरपुर या खगड़िया सीट भी दी जा सकती है।' 

सूत्रों का कहना है कि दरभंगा सीट पर वीआईपी को दी जाती है तो इसका मतलब ये होगा कि हाल ही में कांग्रेस को जॉइन करने वाले कीर्ति आजाद को दिल्ली की किसी सीट से उतारा जा सकता है। आजाद ने 2014 के लोकसभा चुनाव में बेजेपी नॉमिनी के तौर पर दरभंगा सीट जीती थी। 

भाइयो-बहनो... मुझ पर इतने मामले दर्ज, दागी उम्मीदवार TV चैनलों पर खोलेंगे अपनी पोल

सीपीआई को मिल सकती है आरा सीट 
माना जा रहा है कि सीपीआई महागठबंधन को आरा सीट घोषित कर सकता है, जिसने शुरू में कथित तौर पर छह सीटें मांगी थीं। एनडीए सरकार में यूनियन मिनिस्टर उपेंद्र कुशवाहा की अगुआई वाली आरएलएसपी काराकाट, पूर्वी चंपारण और वाल्मिकीनगर सीट से लड़ सकती है। आरएलएसपी ने एनडीए का साथ छोड़कर बिहार में महागठबंधन को जॉइन किया है। कहा ये भी जा रहा है कि गया और नालंदा की सीट पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी एचएएम को मिल सकती है।

UP-बिहार में खस्ता हालत कांग्रेस को पहुंचा सकते हैं नुकसान, ये राज्य दिला सकते हैं सिंहासन

आरजेडी को भी मिल सकती है सीटें 
सूत्रों का कहना है कि आरजेडी को मधुबनी, झंझारपुर, वैशाली, सीवान, महाराजगंज, सारण, उजियारपुर, खगड़िया, पाटलिपुत्रा, बक्सर, जहानाबाद, गया और जमुई सीट मिल सकती है। ये सीटें अररिया, मधेपुरा, बांका और भागलपुर की सीटों के अलावा होंगी, जो आरजेडी ने 2014 में जीती थीं। इस बंटवारे में किशनगंज, सुपौल, कटिहार, सासाराम, समस्तीपुर, औरंगाबाद, मुजफ्फरपुर, मुंगरे, शिवहर, हाजीपुर और पटना साहिब की सीट मिल सकती है। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.