Wednesday, Oct 16, 2019
know the truth behind pm modis height

#HowdyMody: पीएम नरेंद्र मोदी के बढ़ते कद के पीछे का जानें सच

  • Updated on 9/23/2019

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। पीएम नरेंद्र मोदी ने पहली बार जब 2014 में देश का कमान संभाला तो दुनिया इस नेता से अनजान था। लेकिन अपने पहले शपथ ग्रहण के समय में ही  पड़ोसी देशों को आमंत्रित किया तो उसमें पाकिस्तान के पीएम भी शिरकत किया था। जिसने सभी को चौंका दिया था। तब से पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी तरकश से समय-समय पर ऐसे तीर फेकें है कि विपक्षी पार्टी तो आश्चर्य में पड़ते ही है। साथ ही दुनिया के नेता भी मोदी के निर्णय देखकर चकित रह जाते है। 

मोदी के ताल पर जब थिरकेंगे भारतवंशी तो देखते रह जाएंगे ट्रंप

पहले भी पीएम नरेंद्र मोदी ने विदेशी धरती पर किया है भारतवंशी को संबोधन

ऐसा ही पहला वाकया तब देखने को मिला जब वे पहली बार अमेरिका 2014 में गए थे। उस समय उन्होंने न्यूयॉर्क सिटी के मोदीसन स्क्वार्यर गार्डन में उपस्थित अपार जनसमूह को जब संबोधित किया तो वहां रह रहे भारतवंशी दंग रह गए। उनके साथ जिस तरह से पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कनेक्ट किया था वो वाकई काबिलेतारिफ था। तब से वे जब भी विदेश यात्रा पर गए है तो वहां रहे भारतवंशी में गजब का उत्साह देखने को मिलता है। फिर ठीक 1 साल बाद जब पीएम नरेंद्र मोदी अमेरिका यात्रा पर गए तो वहां सिलिकॉन वैली शो में युवाओं को संबोधित किया। उसमें भी पीएम के भाषण ने सबको प्रभावित किया था।

 Houston: ऊर्जा क्षेत्र के CEO के साथ पीएम मोदी ने की बैठक, हुए बड़े फैसले
वहीं जब पिछले साल पीएम नरेंद्र मोदी ने इंगलेंड की यात्रा पर गए तो वेस्टमिस्टर के सेंट्रल हॉल में ‘भारत की बात सबके साथ’ कार्यक्रम को संबोधित किया। जिसमें प्रसून जोशी ने प्रधानमंत्री मोदी का इंटरव्यू लिया जिसने खासा चर्चा लूटा। यानी पीएम नरेंद्र मोदी जो तकनीकी प्रेमी भी है, अपने संबोधन से सबको सम्मोहित कर लेते है। फिर चाहे वे अपने देश के किसी सूदूर क्षेत्र में भाषण दे रहे हो या फिर अमेरिका, लंदन ही क्यों न हो। 

ह्यूस्टन पहुंच कर मोदी ने कहा ‘Howdy Houston’

नरेंद्र मोदी ने देश में दोबारा सत्ता हासिल करने के बाद एक मजबूत छवि गढ़ ली है। लेकिन उनकी बारिकी में अगर जाएंगे तो विदेशी राष्ट्राध्यक्ष से मिलते हुए भी उन्होंने हमेशा से भारत को समकक्ष देश के तौर पर देखने के लिये मजबूर किया है। उन्होंने अपने संबोधन में हमेशा से कहा है कि भारत किसी से आंख मिलाकर बात करता है झुका कर नहीं। इस तरह की छोटी-छोटी बातों ने उन्हें विदेशों में बसे भारतवंशियों के बीच लोकप्रिय बनाया है। इसमें कोई दो राय नहीं है। असल में विदेशों में रह रहे भारतीयों को उन्होंने गर्व से जीने और सर उठाकर रहने के लिये उत्साहित किया है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.