Wednesday, Jun 26, 2019

एग्जिट पोल के इतर चुनाव परिणमों को लेकर क्या है ज्योतिषियों की राय, जानें

  • Updated on 5/21/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव 2019 (loksabha elections 2019) संपन्न हो चुहा है। अब केवल इसका रिजल्ट आना बाकी है। एग्जिट पोल्स द्वारा जारी किये गए परिणामों से भाजपा (bjp) का जोश हाई दिख रहा है। तमाम एग्जिट पोल एनडीए (nda) को पूर्ण बहुमत दे रहे हैं।

लेकिन अगर बात ज्योतिषियों की भविष्यवाणी की करें तो इनके आंकड़े कुछ और ही बयां कर रहे हैं। काशी के पंडितों ने जब मोदी की कुंडली खंगाली तो चौंकाने वाले परिणाम सामने आए।

प्रणब मुखर्जी ने भी वोटरों के फैसले से छेड़छाड़ की खबरों पर जताई चिंता

ज्योतिष विमल जैन के अनुसार 23 मई को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र और बुधादित्य योग का प्रभाव पूरे दिन रहेगा। सूर्च चंद्रमा और केतु धनु राशि में तो गुरु बृहस्पति पीएम मोदी की वृश्चिक राशि में होंगे। इस बीच दिन के समय चंद्रमा के धनु से मकर राशि में स्थान परिवर्तन से ठीक उसी तरह चुनाव परिणाम पर असर पड़ेगा जैसे विभिन्न राशियों के लोगों के जीवन पर प्रभाव पड़ता है।

ग्रहों के चलते सारे पूर्वानुमान बेकार साबित होंगे। जो भी परिणाम आएंगे वह एक अस्थिर सरकार का संकेत देंगे। यदि जोड़तोड़ से सरकार बनती है तो वह अपना कार्यकाल पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि जो भी एकाधिकार की उम्मीद लगाई होगी, उसे मायूसी हाथ लगेगी।

Navodayatimes

मायावती से मिले अखिलेश, बनाई गठबंधन सरकार बनाने की रणनीति

प्रो. विनय कुमार पांडेय जो बीएचयू में ज्योतिष विभाग के अध्यक्ष हैं ने अपनी भविष्य वाणी में कहा है कि बृहस्पति, शनि और केतु ग्रह का सीधा असर चुनाव परिणाम पर दिखेगा। वह कहते हैं कि परिणाम चौंकाने वाले लेकिन प्रभावशाली और लोकतंत्र के लिए बेहतर स्थिति वाले होंगे। विनय के अनुसार परिणाम चाहे जो भी हों, लेकिन देश को एक मजबूत सरकार मिलेगी। उन्होंने बताया कि राशि में उच्च ग्रहों के चलते पीएम मोदी का भाग्य प्रबल होने से क्षेत्रीय दलों के सहयोग से फिर देश की बागडोर संभालना तय है।

Navodayatimes

काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के पूर्व सदस्य प्रो. चंद्रमौलि के अनुसार चुनाव प्रक्रिया के अलग-अलग चरण में ग्रहों की स्थिति अलग-अलग होने के बावजूद प्रभावी ग्रहों के अंतिम समय में एक ही जगह होने से अप्रत्याशित चुनाव परिणाम आ सकते हैं।

चंद्रमौलि के अनुसार वर्तमान सत्ताधारी दल को भी हल्का झटका लग सकता है पर उसका असर सरकार बनने पर नहीं पड़ेगा। राजनीतिक पद प्रतिष्ठा के लिए सबसे महत्वपूर्ण मंगल और उसके बाद चंद्रमा, बृहस्पति की स्थिति पीएम मोदी की कुंडली में बेहतर होने से उनके नेतृत्व में एक बार फिर सरकार बनने की प्रबल संभावना है।

भाजपा दफ्तर में मंत्रियों का जमावड़ा, चुनाव परिणामों के बाद की रणनीतियों पर हो सकती है चर्चा

अखिल भारतीय विद्वत परिषद के महामंत्री डॉ. कामेश्वर उपाध्याय के ज्योतिष आंकड़े भी खासे दिलचस्प हैं। उनके अनुसार बृहस्पति, शनि व केतु के धनु राशि में तथा मिथुन राशि में राहुल व मंगल की युति का जबरदस्त असर चुनाव परिणाम पर पड़ेगा। वह कहते हैं कि तमाम बड़े नाम चुनाव हारेंगे और नये चहरों का उभार होगा।

उन्होंने एक बेहद दिलचस्प बात बताई। उन्होंने कहा कि परिधावी संवत्सर होने से देश की बागडोर पुरुष के ही हाथों में होगी। इससे उन सभी महिला नेताओं को निराशा हो सकती है जो पीएम की कुर्सी का सपना संजोए बैठी हैं। मायावती और ममता उनमें से प्रमुख हैं। उनके मुताबिक दक्षिण भारत को छोड़कर अन्य सभी राज्यों में भाजपा मजबूती के साथ आएगी और सरकार बनाएगी।

Navodayatimes

ज्योतिषाचार्य पं. ऋषि द्विवेदी के अनुसार पीएम नरेंद्र मोदी को इस बार बहुमत नहीं मिलेगा। वह कहते हैं कि भाजपा की कुंडली में वर्ष 2014 जैसी सूर्य की महादशा न होने से पूर्ण बहुमत मिलना संभव नहीं दिख रहा। वह कहते हैं कि सरकार बनाने के लिए भाजपा को अन्य दलों के समर्थन की जरूरत पड़ेगी। एक बेहद दिलचस्प बात वह कहते हैं कि इस बार पांच साल से पहले ही चुनावों की स्थिति पैदा हो सकती है।

हालांकि वह कहते हैं कि पीएम मोदी ही एक बार फिर देश की बागडोर संभालेंगे। कांग्रेस के बारे में वह कहते हैं कि कांग्रेस की ताकत तो बढ़ेगी लेकिन वह सरकार बनाने की स्थिति में नहीं होगी। कुलजमा यह है कि भाजपा पूरी मजबूती के साथ सरकार नहीं बना पाएगी।

Navodayatimes

एग्जिट पोल के नतीजों से भाजपा में भारी उत्साह, जश्न की तैयारी में जुटा मिष्ठान बाजार

प्रकांड ज्योतिषाचार्य पं. दीपक मालवीय के अनुसार बृहस्पति और शनि ग्रहों के चलते आश्चर्यजनक एवं चौंकाने वाले चुनाव परिणामों से नए सियासी समीकरण सामने आएंगे। वह कहते हैं कि एग्जिट पोल इस बार फेल हो जाएंगे। हालांकि वह इस बात से इंकार नहीं करते कि केंद्र में एक बार फिर भाजपा की सरकार बनेगी।

वह कहते हैं कि भाजपा तमाम सहयोगी पार्टियों से गठबंधन कर सरकार बनाएगी। वह कहते हैं कि तमाम दलित नेता जो विजय का सपना देख रहे हैं उन्हें निराशा हाथ लगेगी। वह यह भी कहते हैं कि ममता और मायावती का प्रभाव परिणामों में नहीं दिखेगा। अब देखना यह है कि एग्जिट पोल सही होते हैं या फिर ज्योतिषियों की भविष्यवाणी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.