Wednesday, Oct 16, 2019
Kullu Dussehra 2019 Beginning of Dussehra festival with Raghunath ji''s grand Rath Yatra

Kullu Dussehra 2019: रघुनाथ जी की भव्य रथयात्रा के साथ दशहरा उत्सव का श्रीगणेश

  • Updated on 10/9/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अधिष्ठाता रघुनाथ जी (Raghunath ji) की भव्य रथयात्रा के साथ मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव ( Kullu Dussehra 2019 ) का श्रीगणेश हो गया। भेखली (Bhekhli) और सईद (Saidi) गांव से देवी जगन्नाथी ने ध्वज लहराकर जैसे ही रथयात्रा शुरू करने का इशारा किया तो ढालपुर मैदान जय श्रीराम के उद्घोष से गूंज उठा। इसी के साथ रघुनाथ जी का भव्य रथ आगे बढने लगा। हजारों लोगों ने रघुनाथ जी के रथ की पवित्र डोर को स्पर्श कर पुण्य कमाया और हजारों लोग इस भव्य देव समागम के साक्षी बने। कई देवी-देवताओं ने रथ यात्रा में शिरकत की। 

उत्तराखंड: श्रद्धा और उल्लास के साथ निकली श्री जगन्नाथ रथ यात्रा

14 अक्तूबर को दशहरा उत्सव का समापन होगा
पारंपरिक वाद्य यंत्रों की धुन के साथ रथयात्रा निकली। रघुनाथ जी के रथ को हजारों लोग उनके अस्थायी शिविर तक लेकर आए। पूजा-अर्चना के बाद रघुनाथ जी अस्थायी शिविर में विराजमान हुए और अब 7 दिन वहीं रहेंगे। अंतिम दिन उसी जगह से रथयात्रा शुरू होगी और कैटल ग्राऊंड से लंका दहन के बाद रथ को वापस रथ मैदान लाया जाएगा। लंका दहन के साथ ही 14 अक्तूबर को दशहरा उत्सव का समापन होगा। 

आखिर क्यों निकाली जाती है #JagannathRathYatra, जानें इससे जुड़ा रहस्य

हजारों की संख्या में लोग ढालपुर पहुंचे
मंगलवार को भव्य रथयात्रा को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग ढालपुर पहुंचे। हर धर्म के लोगों ने इस भव्य देव समागम में शिरकत की और इसके साक्षी बने। इससे पहले रघुनाथ जी को भव्य शोभायात्रा के साथ पालकी में रघुनाथपुर से रथ मैदान लाया गया। उसके बाद रघुनाथ रथ में सवार हुए और अस्थायी शिविर तक पहुंच गए।

गुजरातः भगवान जगन्नाथ के दरबार पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह, पत्नी संग गाई मंगल आरती

रघुनाथ जी के कारकूनों ने रथ की परिक्रमा की
रघुनाथ जी के कारदार दानवेंद्र सिंह ने कहा कि अब दशहरा उत्सव के समापन तक अधिष्ठाता रघुनाथ जी अस्थायी शिविर में ही विराजमान रहेंगे। इस मौके पर राज परिवार से रघुनाथ जी के छड़ीबरदार एवं पूर्व सांसद महेश्वर सिंह, रघुनाथ जी के कारदार दानवेंद्र सिंह, जिला परिषद सदस्य हितेश्वर सिंह, आदित्य विक्रम सिंह सहित राज परिवार के सभी लोगों, रघुनाथ जी के कारकूनों ने रथ की परिक्रमा की। उसके पश्चात रथ यात्रा शुरू की गई। 

comments

.
.
.
.
.