Monday, Sep 27, 2021
-->
kumar vishwas former aap mocked election commission on corona covid 19 directive rkdsnt

कुमार विश्वास ने चुनाव आयोग के कोविड निर्देश का उड़ाया मजाक

  • Updated on 10/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चुनाव आयोग ने कई राज्यों में हो रहे विधानसभा और उपचुनाव के मद्देनजर पार्टियों को कोरोना से जुड़े दिशा-निर्देश पालन करने की अपील की है। इसके साथ ही आयोग ने कोरोना वायरस के मद्देनजर रैलियों में भीड़ को नियंत्रित करने का भी निर्देश दिया है। इसको लेकर अब आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता व कवि कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) ने मजाक उड़ाया है। 

SEBI ने किसानों, कृषक उत्पादक संगठनों के कोष को लेकर जारी किए दिशानिर्देश

कृषि संबंधी नए कानून : अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के सीएम अमरिंदर पर किया पलटवार

कुमार विश्वास ने अपने ट्वीट में चुनाव आयोग के निर्देश की हंसते हुए लिखा है, 'ही ही...ई सी ई सी...ही ही'। साफ है कि कुमार ने इशारा किया है कि चुनावी रैलियों में भीड़ को नियंत्रित करना और उनसे कोरोना नियमों का पालन कराना बच्चों का खेल नहीं है। जब नेता ही बिना मास्क और कोरोना नियमों का मखौल उड़ा रहे हैं, ऐसे में जनता से इसकी उम्मीद करना बेमानी है।

चुनाव आयोग ने अप्रमाणित विज्ञापनों के प्रकाशन पर लगाई रोक
चुनाव आयोग ने बिहार में तीन चरणों में होने वाले चुनाव में मतदान वाले दिन और उससे एक दिन पहले राजनीतिक दलों, उम्मीदवारों एवं अन्य द्वारा अप्रमाणित विज्ञापन प्रकाशित किये जाने पर रोक लगाई है। आयोग ने कहा है कि जब तक विज्ञापन की सामग्री को स्क्रीनिंग समिति प्रमाणित नहीं करती तब तक उन्हें प्रकाशित नहीं किया जा सकता। यही पाबंदी सात नवंबर को बिहार के वाल्मीकि नगर लोकसभा उपचुनाव के लिए भी लागू होगी। 

श्रीनगर में अखबार का दफ्तर सील, विपक्षी दलों के नेताओं ने की आलोचना

आयोग ने संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत अपने संवैधानिक अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए यह फैसला किया है। चुनाव आयोग ने पहली बार 2015 के बिहार चुनाव में इस तरह का फैसला किया था। मतदान वाले दिन और उससे एक दिन पहले राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक लगाने का प्रस्ताव कुछ साल से विधि मंत्रालय के पास लंबित है। 

पश्चिम बंगाल की सियासत के बीच भाजपा अध्यक्ष नड्डा बोले- बहुत जल्द लागू होगा CAA

आयोग ने सोमवार को बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को लिखे पत्र में कहा कि प्रिंट मीडिया में भ्रामक प्रकृति के विज्ञापन प्रकाशित किये जाने के मामले पहले भी उसके संज्ञान में आये हैं। उसने कहा, ‘‘मतदान के अंतिम चरण में इस तरह के इश्तहार पूरी चुनाव प्रक्रिया को खराब कर देते हैं। इस तरह के परिदृश्य में प्रभावित उम्मीदवारों और पार्टियों को स्पष्टीकरण देने का कोई अवसर ही नहीं मिलेगा।’’

कांग्रेस की पीएम मोदी पर हमला, कहा- देश कोरा संबोधन नहीं, ठोस हल चाहता है 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.