#KumbhMela: मकर संक्रांति पर पहले शाही स्नान का हुआ आगाज, संतों ने लगाई आस्था की डुबकी

  • Updated on 1/15/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मकर संक्रांति के मौके पर शाही स्नान के साथ ही प्रयागराज में कुंभ का आगाज हो गया है। 14 जनवरी 2019 को शुरू हुए अर्द्धकुंभ का आयोजन प्रयागराज में किया जा रहा है। ये महापर्व 14 जनवरी से शुरू होगा और 4 मार्च तक चलेगा।

इसी के साथ 15 जनवरी यानि मकर संक्रांति से प्रयाग की धरती पर धर्म के विश्वविद्यालय के आरंभ का उद्घोष हो गया है। कुंभ में आज यानी मंगलवार को तड़के से ही पहले शाही स्नान का सिलसिला शुरू हो गया।

कुंभ 2019: प्रयागराज कुंभ की ये बातें बनाती हैं इसे और भी खास, विदेश से भी खिंचे चले आते हैं भक्त

ऐसी मान्यता है कि संगम में एक डुबकी लगाने से सारे पाप धुल जाते हैं और लोगों को जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति मिल जाती है और उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है।

कड़ाके की सर्दी में अलग-अलग अखाड़ों के साधु गंगा में डुबकी लगा रहे हैं। पूरे धूमधाम से शोभा यात्रा निकालते हुए निरंजनी और आनंद अखाड़े के साधु संतों ने संगम तट पर शाही स्नान किया। केंद्रीय मंत्री निरंजन ज्योति को निरंजनी अखाड़े का महामंडलेश्वर बनाया गया है। वह भी इस पावन पर्व पर कुंभ के शंखनाद की साक्षी बनीं।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष एवं निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेन्द्र गिरि ने बताया कि निरंजन ज्योति पहली महिला हैं जो केन्द्र की मोदी सरकार में मंत्री होने के साथ ही महिला महामंडलेश्वर के रूप में 15 जनवरी को शाही स्नान करेंगी। इससे पहले किसी भी अखाड़े में कोई केन्द्रीय मंत्री महामंडलेश्वर नहीं बना है।

कुंभ में भोले को जमकर चढ़ाए भांग, सरकार ने नहीं लगाई कोई रोक

गिरि ने बताया कि निरंजन ज्योति निरंजनी अखाड़े की 11वीं महिला महामंडलेश्वर होंगी। संत परंपरा में इससे बड़ा कोई सम्मान नहीं। निरंजन ज्योति ने कहा कि वह समझती हैं कि संत परंपरा में इससे बड़ा कोई सम्मान नहीं हो सकता। राजधर्म और धर्म दोनों अलग नहीं हैं। यह एक सिक्के के 2 पहलू हैं। मैं पहले संत हूं बाद में राजनेता।

अब कुंभ मेले में नहीं खोएंगे बच्चे
हर बार कुंभ मेला में बच्चों खो जाने की सैकड़ों घटनायें होती हैं लेकिन इस बार उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐसा इंतजाम किया है कि कोई भी बच्चा खोने के बाद तत्काल ढूंढ लिया जाएगा।

विधि विधान से खुले आदिबद्री मंदिर के कपाट

उत्तर प्रदेश पुलिस कुंभ के दौरान 14 साल से कम उम्र के बच्चों को ‘रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान’ (आरएफआईडी) टैग लगाएगी, ताकि यहां भीड़ में खोने वाले बच्चों का पता लगाया जा सके।

पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सोमवार को कहा, ‘कुंभ में अगले 50 दिनों में 12 करोड़ लोगों के भाग लेने की उम्मीद है। हम कुंभ में आने वाले 14 साल से कम उम्र के बच्चों को आरएफआईडी टैग लगाएंगे ताकि वे खो न पाएं।’ उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए विभाग ने वोडाफोन से सहयोग लिया है और 40,000 आरएफआईडी टैग का इस्तेमाल किया जाएगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.