Wednesday, May 12, 2021
-->
lakhs-devotees-dip-royal-bath-baisakhi-mesh-sankranti-in-mahakumbh-amid-corona-rkdsnt

कोरोना संकट के बीच महाकुंभ में बैसाखी के मुख्य शाही स्नान में लाखों ने लगाई डुबकी 

  • Updated on 4/14/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हरिद्वार महाकुंभ में बुधवार को बैसाखी और मेष संक्रांति के पर्व पर तीसरे और मुख्य शाही स्नान में 13-14 लाख श्रद्धालु ही मोक्षदायिनी गंगा में पवित्र डुबकी लगाने पहुंचे। महाकुंभ में कोरोना महामारी की दूसरी लहर का बढ़ता खौफ भी आस्था पर हावी होता नजर आया। पुलिस से मिले ताजा आंकडों के अनुसार, शाही स्नान पर्व पर 13-14 लाख लोगों ने गंगा में स्नान किया। 

नवरात्रि: यूपी में कुट्टू के आटे के पकौड़े खाने से दर्जन भर लोग बीमार पड़े 

जहां अखाडों से जुडे साधु संतों ने पूर्ण श्रद्धा के साथ मुख्य स्नान घाट हर की पैड़ी पर अपने इष्ट देवों और अनुयायियों के साथ गंगा में स्नान किया तो वहीं हरिद्वार और ऋषिकेश के विभिन्न गंगा घाटों पर आम श्रद्धालुओं ने नदी में डुबकी लगाई। महाकुंभ मेले की व्यवस्था की स्वयं निगरानी करने वाले प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि शाही स्नान पर्व निर्विघ्न संपन्न हो गया। महाकुंभ मेले में बुधवार को पहुंचे स्नानार्थियों की यह संख्या सोमवार को सोमवती अमावस्या के पर्व पर आए 25—30 लाख श्रद्धालुओं की संख्या की लगभग आधी और वर्ष 2010 में महाकुंभ में बैसाखी के पर्व पर आए एक करोड़ 60 लाख श्रद्धालुओं के मुकाबले लगभग चौदहवां हिस्सा ही है जो कोविड-19 के बढ़ते डर की तस्वीर पेश करता है। 

पुलिस महानिदेशक कुमार ने भी माना कि कोविड के डर का असर महाकुंभ मेले पर पड़ा है जिसकी तस्दीक आंकड़े खुद बयां कर रहे हैं। हालांकि, सभी 13 अखाड़ों के साधु संतों ने पूरी श्रद्धा के साथ गंगा में डुबकी लगाई। सबसे पहले पंचायती अखाड़ा निरंजनी के साधु संत अपने पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि के नेतृत्व में हर की पैडी ब्रहमकुंड पहुंचे जहां उन्होंने अपने इष्टदेव की पूजा अर्चना करने के बाद ‘‘हर—हर महादेव और गंगा मैया की जय’’ के उदघोष के साथ शाही स्नान किया। उनके साथ आनंद अखाड़े के संतों ने भी शाही स्नान किया। 

भाजपा शासित गुजरात में कोरोना मामलों में इजाफा, शमशानों में लगीं लंबी कतारें 

उसके बाद सबसे ज्यादा नागा संन्यासियों वाले जूना अखाड़ा, अग्नि और आवाहन अखाड़े के संतों ने ‘‘हर हर महादेव’’ का जयघोष करते हुए पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि जी महाराज की अगुवाई में शाही स्नान किया। इनके साथ ही किन्नर अखाड़े की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी और अन्य संतों ने भी स्नान किया। 

इसके बाद महानिर्वाणी और अटल अखाड़े के संतजनों ने हर की पैडी ब्रहमकुंड में शाही स्नान किया। इसके बाद शाही स्नान के लिए तीनों बैरागी अखाड़े—पंच निर्वाणी अणि अखाड़ा, पंच दिगम्बर अणि अखाड़ा और पंच निर्मोही अणि अखाड़े के संत हर की पैडी ब्रहमकुंड में पहुंचे। पंचायती बड़ा अखाड़ा उदासीन निर्वाण और इसके बाद श्री पंचायती नया उदासीन अखाड़ा निर्वाण के साधु संतों ने स्नान किया। सबसे आखिर में निर्मल अखाड़ा के साधु संतों ने जयघोष करते हुए शाही स्नान किया। 

भाजपा नेतृत्व वाले राजग से अलग हुई गोवा फॉरवर्ड पार्टी 

इस दौरान पूरा क्षेत्र साधु संतों के रंग में डूबा नजर आया। हरकी पैड़ी पर दिनभर कभी‘हर— हर महादेव‘, कभी ‘गंगा मैया की जय’तो कभी‘जय श्रीराम’की गूंज सुनाई देती रही। शाही स्नान के लिए जाते साधु संतों पर उत्तराखंड सरकार की ओर से हेलीकॉप्टर से लगातार पुष्पवर्षा की जाती रही जिससे वातावरण काफी मनोहारी और दिव्य बन गया। इससे पहले, सुबह सात बजे मेला प्रशासन ने मुख्य स्नान घाट हर की पैडी ब्रहमकुंड को पूरा खाली करा लिया जिससे पूरे दिन यहां सभी अखाडों के साधु संत शाही स्नान कर सकें। इसके अलावा, हर की पैडी के पास मालवीय घाट भी शाही स्नान के लिए आरक्षित रहा। 

प्रशांत किशोर के बाद ममता ने की BJP के लिए चुनावी सीटों की भविष्यवाणी

सुरक्षा की दृष्टि से 20 हकाार से भी अधिक पुलिस बलों के जवान और बम निरोधक दस्ते मेला क्षेत्र में तैनात किए गए थे। महाकुंभ शाही स्नान के दौरान आने जाने वाले लोगों को पुलिस के जवान मास्क बांटते और सावधानी बरतने की सलाह देते नजर आए। हर की पैडी तथा अन्य घाटों पर महाकुंभ मेला प्रशासन ने सैनिटाइजर की मशीनें लगाई थीं। कोविड-19 के कारण एक माह की अवधि के लिए सीमित कर दिए गए महाकुंभ का यह तीसरा शाही स्नान था। इससे पहले एक मार्च को महाशिवरात्रि के मौके पर महाकुंभ का पहला तथा 12 अप्रैल को दूसरा शाही स्नान पड़ा था। 

उधर, बुधवार को अखाड़ों के शाही स्नान के बाद मेला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों और कर्मचारियों ने भी हरकी पैड़ी ब्रहमकुंड में गंगा स्नान किया। साधु संतों के स्नान का क्रम समाप्त होते ही कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत, कुंभ पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंज्याल, कुंभ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मजेय खंडूरी सहित अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों ने गंगा में डुबकी लगाई। इस बीच, प्रदेश में भी देश के अन्य हिस्सों की तरह कोरोना वायरस संक्रमण बढता जा रहा है। बुधवार को भी प्रदेश में कोविड-19 के 1953 मामले सामने आए जिनमें से 525 हरिद्वार में ही दर्ज हुए हैं। 

कांग्रेस बोली- पीएम मोदी लोगों की जान के बजाय बंगाल चुनाव को दे रहे हैं तवज्जो 

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि सहित डेढ़ दर्जन से अधिक संतों के कोरोना संक्रमित होने के बाद अन्य साधु संतों की भी कोविड जांच की जा रही है। हरिद्वार के मुख्य चिकित्सा अधिकारी शम्भू कुमार झा ने बताया कि मंगलवार तक पांच अखाड़ों में 500 साधुओं की कोरोना जांच की गयी जिनमें से 19 संत महामारी से संक्रमित मिले हैं। उन्होंने बताया कि अधिकांश संतो की जांच और टीकाकरण का कार्य बुधवार के बाद तेजी से किया जाएगा।

उत्तराखंड में लगातार दूसरे दिन कोरोना वायरस के 1900 से ज्यादा मामले 
उत्तराखंड में बुधवार को लगातार दूसरे दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 1953 नए मामले सामने आये जबकि महामारी से 13 और मरीजों की मौत हो गई। यहां स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार इन नये मामलों को मिलाकर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 114024 हो गई हैं जबकि मृतकों का आंकडा 1793 पहुंच गया है। बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में सर्वाधिक 796 कोविड मरीज देहरादून में मिले जबकि हरिद्वार में 525, नैनीताल में 205, उधम सिंह नगर में 118, अल्मोडा में 92, पौडी में 79, टिहरी में 78 और चंपावत में 28 नए मरीज सामने आए हैं। प्रदेश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 10770 है जबकि 99380 लोग अब तक स्वस्थ हो चुके हैं।

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

  •  
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.