Monday, Nov 18, 2019
Lal Salute again in JNU wins all four positions

JNU में फिर से लाल सलाम, चारों पदों पर हासिल की जीत

  • Updated on 9/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लेफ्ट पार्टी (left parties) की उपस्थिति भले ही इस देश के सियासत की सीन से गायब होता जा रहा हो लेकिन आज भी देश की धड़कन दिल्ली (delhi) में स्थित प्रतिष्ठित जेएनयू (JNU) में न सिर्फ जीवित है बल्कि अपनी जीवंतता की एहसास कराती रहती है। आज जेएनयू छात्र संघ के आए चुनाव परिणाम में लेफ्ट यूनिट की सभी चारों सीटों पर लाल झंडा ने अपना जीत का परचम लहरा दिया है। आइशी घोष (aayshe ghosh) जहां अध्यक्ष सीट पर जीत हासिल की है तो साकेत मून (saket mun) उपाध्यक्ष, महासचिव पद पर सतीश चंद्र यादव (satish chandra yadav) जबकि मोहम्मद दानिश (mohammad danish) संयुक्त सचिव के पद पर चुने गए है। 
 

DUSU Elections 2019 Results: अध्यक्ष सहित तीन पदों पर ABVP काबिज, NSUI एक सीट पर विजयी

ABVP की हुई JNU में करारी हार
हालांकि इस चुनाव परिणाम के साथ ही बीजेपी के छात्र विंग एबीभीपी का सूपड़ा साफ हो गया है। जैसा कि चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी के इस छात्र संगठन ने दावा किया था कि जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटाने जैसे मोदी सरकार के साहसिक फैसले के बाद बदली हुई परिस्थिति में उसे लाभ होने जा रहा है। लेकिन एक बार फिर जेएनयू के चुनाव ने साबित कर दिया है कि यहां तो सिर्फ लेफ्ट पार्टी के छात्र विंग का ही जलवा चलता है। इस बीच देश के दूसरे प्रतिष्ठित DU के चुनाव परिणाम में ABVP को 4 में से 3 सीट पर जीत हासिल हुई तो कांग्रेस के छात्र विंग NSUI को 1 सीट पर ही संतोष करना पड़ा।
      
 

दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश से चुनाव परिणाम में हुई देरी
इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट में जेएनयू के 2 छात्रों की याचिका पर सुनवाई करते हुए 17 सितंबर तक चुनाव परिणाम घोषित करने पर रोक लगा दी थी। जिस पर बीते सोमवार को हाईकोर्ट ने सुनवाई करके परिणाम घोषित करने का आदेश दिया था। याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि जेएनयू चुनाव समिति ने लिंग्दोह कमेटी की सिफारिशों का उल्लंघन करते हुए चुनाव कराये है जिसे तत्काल रोक देनी चाहिये। हालांकि इसके बाद जेएनयू प्रशासन ने अपने जवाब में कहा कि चूंकि याचिकाकर्ता को चुनाव लड़ने के लिये अयोग्य पाया गया था। और इन लोगों ने अपने उपर किये गए अनुशासनात्मक कार्रवाई को छिपाया है। जिस पर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए जेएनयू चुनाव परिणाम को घोषित करने को कहा। 
 

comments

.
.
.
.
.