Saturday, Jul 04, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 3

Last Updated: Fri Jul 03 2020 10:32 PM

corona virus

Total Cases

646,924

Recovered

392,869

Deaths

18,656

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA192,990
  • NEW DELHI94,695
  • TAMIL NADU86,224
  • GUJARAT34,686
  • UTTAR PRADESH24,056
  • RAJASTHAN18,785
  • WEST BENGAL17,907
  • ANDHRA PRADESH16,934
  • HARYANA15,732
  • TELANGANA15,394
  • KARNATAKA14,295
  • MADHYA PRADESH13,861
  • BIHAR10,392
  • ASSAM7,836
  • ODISHA7,545
  • JAMMU & KASHMIR7,237
  • PUNJAB5,418
  • KERALA4,312
  • UTTARAKHAND2,831
  • CHHATTISGARH2,795
  • JHARKHAND2,426
  • TRIPURA1,385
  • GOA1,251
  • MANIPUR1,227
  • LADAKH964
  • HIMACHAL PRADESH942
  • PUDUCHERRY714
  • CHANDIGARH490
  • NAGALAND451
  • DADRA AND NAGAR HAVELI203
  • ARUNACHAL PRADESH187
  • MIZORAM151
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS97
  • SIKKIM88
  • DAMAN AND DIU66
  • MEGHALAYA51
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
latest data on india coronavirus testing icmr tests corona study pragnt

कोरोना को लेकर केंद्र सरकार की बड़ी चूक, 70 फीसद मरीजों का डेटा ही नहीं रखा गया

  • Updated on 6/6/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और एक पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया की तरफ से देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर स्टडी की है। जिसमें उन्होंने पाया है कि कोरोना पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा हो रहा है। इसके अलावा यह स्टडी बताती है कि देश में 10 लाख में से 41.6 % पुरुषों की और 24.3 प्रतिशत महिलाओं की कोरोना जांच हुई है।

उत्तरप्रदेश में भी पकड़ा Corona ने रफ्तार, कुल पॉजिटिव की संख्या 10 हजार के करीब

70 फीसद लोगों का डेटा सरकार के पास नहीं
इसके अलावा इस स्टडी में यह बात भी सामने आई है कि सरकार ने 20 जनवरी से 30 अप्रेल तक जितने लोगों की टेस्टिंग की है, उनमें से 70 फीसद का डाटा सरकार के पास ही नहीं है। यानि सरकार ने इन मरीजों का डेटा ही संभाल कर नहीं रखा है। इसके बाद एजेंसियों को कहना है कि देश में कोरोना वायरस कैसे फैल रहा है इसे समझना भी मुश्किल है।

25 सरकारी स्कूलों में एक साथ पढ़ा रही थी शिक्षिका, 1 करोड़ से ज्यादा की सैलरी उठा किया फ्रॉड

28 फीसद लोगों में नहीं मिला लक्षण
इस स्टडी में कुछ आंकड़े दिए गए है, जिसमें बताया गया है कि देश में 20 जनवरी से 30 अप्रेल तक कोरोना पॉजिटिव मरीजों में 28 फीसद ऐसे थे जिनमें कोई लक्षण नहीं मिला था। इसके अलावा स्टडी में 10 लाख 21 हजार 528 टेस्ट कोरोना टेस्टों के आधार पर और फिर 40 हजार 184 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का डेटा एनालाइस करने के बाद यह भी कहती है कि सरकार को ज्यादा से ज्यादा कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग करने की जरूरत है।

चीन से वार्ता से पहले भारत ने भी बनाया दबाव, लद्दाख सीमा पर भेजीं 60 बोफोर्स तोपें

डेटा न होने के बहुत नुकसान
70% मरीजों का डेटा नहीं होना सरकार की लापरवाही दिखाता है। इसका पहला नतीजा तो यह है कि पॉजिटिव मरीजों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग नहीं हो सकी है क्योंकि हमारे पास 22 जनवरी से 30 अप्रैल के कोरोना की जांच के लिए होने वाले आरटी-पीसीआर के जितने टेस्ट हुए, उनमें से 70.6% लोगों का डेटा ही नहीं था। इसका नतीजा ये हुआ कि पॉजिटिव मरीजों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग भी ठीक तरीके से नहीं हो सकी जबकि पूरी दुनिया में कोरोना जैसी बीमारी को रोकने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बहुत जरूरी हथिया के रूप में काम आई है।  

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.